मलिन बस्तियों में बढ़ीं नशा कारोबारियों की गतिविधियां
मलिन बस्तियों में बढ़ीं नशा कारोबारियों की गतिविधियां
उत्तराखंड

मलिन बस्तियों में बढ़ीं नशा कारोबारियों की गतिविधियां

news

राजधानी में नशा के कारोबारियों पर होगी कड़ी कार्रवाई : एसएसपी देहरादून, 30 जुलाई (हि.स.)। राजधानी दून की मलिन बस्तियां नशा कारोबार का प्रमुख गढ़ बन चुकी है। इन मलिन बस्तियों में जहां स्मैक, चरस, अफीम व गांजे का अवैध कारोबार चल रहा है, वहीं आपराधिक प्रवृत्ति के लोग भी यहां शरण लिए हुये हैं। मित्र पुलिस इस सबसे अनजान नही है। लेकिन इनके खिलाफ कार्यवाही न होने से इनके हौसला बुलंद हैं। लाॅकडाउन के दौरान जहां देश प्रदेश में आवाजाही पर पूरी तरह प्रतिबन्ध लगा था, तब भी देहरादून की मलिन बस्तियों में नशे का कारोबार चलता रहा। इन मलिन बस्तियों में प्रात:काल से ही नशेड़ी प्रवृत्ति के लोगों का आना जाना लगा रहता है। जिससे इन बस्तियों के आसपास रहने वाले लोगों में खासा रोष बना हुआ है।बीते वर्ष शहर कोतवाली क्षेत्र की बिन्दाल बस्ती में पुलिस ने जब इन नशा कारोबारियों के खिलाफ कार्यवाही की तो वहां पुलिस ने भारी मात्रा में नशे की सामग्री बरामद की थी। यह शहर की अकेली मलिन बस्ती नहीं है, इसके अलावा डीएल रोड, कांवली रोड, पटेलनगर क्षेत्र व रायपुर क्षेत्र की मलिन बस्ती सहित ऐसी कई बस्तियां हैं, जहां नशे का कारोबार बिना किसी डर के संचालित हो रहा है। पुलिस ने नशे के खिलाफ अभियान चलाकर तकरीबन हर रोज नशा कारोबार के छुटभैय्ये नशा तस्करों को सलाखों के पीछे भेज कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर रही है।लेकिन मलिन बस्ती में पनप रहे कारोबार करने वालों पर पुलिस कोई कार्यवाही नहीं कर रही है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि नशाखोरी रोकने का हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं लेकिन नशाखोर कोई न कोई नया तरीका ढूंढ लेते हैं। इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डीआई अरुण मोहन जोशी का कहना है कि वह इस संदर्भ में और कड़ी कार्यवाही करेंगे और राजधानी को नशाखोरों से मुक्त कराया जाएगा। इसके लिए उन्होंने हर थाना प्रभारी को विशेष निर्देश दे दिये हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती-hindusthansamachar.in