पीएम से बांध प्रभावितों की समस्याओं के समाधान की मांग
पीएम से बांध प्रभावितों की समस्याओं के समाधान की मांग
उत्तराखंड

पीएम से बांध प्रभावितों की समस्याओं के समाधान की मांग

news

नई टिहरी, 24 जुलाई (हि.स.)। एकता मंच के संयोजक व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य आकाश कृषाली ने टिहरी बांध परियोजनाओं के प्रभावितों, भावी पीढ़ियों के सर्वांगीण विकास, टिकाऊ विकास ठोस नीति व निर्णय के लिए हस्ताक्षरित ज्ञापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रवार को प्रेषित किया। इसमें मांग की गई है कि विस्थापन के कारण बढ़ी बेरोजगारी को दूर करने के लिए आज तक कोई भी ठोस नीति नहीं बनी है। इससे बेरोजगार परेशान हैं। बांध की सीएसआर मद और उत्तराखंड सरकार को मिलने वाली रायल्टी का 10 प्रतिशत बांध विस्थापितों की समस्याओं के समाधान पर खर्च किया जाए। केंद्र सरकार की गठित परियोजना स्तरीय समिति ने प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद कुछ गंभीर मुद्दों को ध्यान में नहीं रखा है। बांध प्रभावित महिलाओं के रोजगार सृजन अवसरों को ध्यान में नहीं रखा गया। नई टिहरी में अधिकांश क्षेत्र वृक्ष विहीन है। पर्यावरणीय शर्तों में विस्थापितों के पुनर्वास के साथ बांध जल संग्रहण क्षेत्र टिहरी व उत्तरकाशी में स्व पोषित विकास, पर्यावरणीय संरक्षण, संवर्द्धन सहित अति महत्वपूर्ण व संवेदनशील भागीरथी नदी घाटी विकास प्राधिकरण गठित करने की शर्त भी शामिल है। आज भी झील के ढलान के गांव को कटान के खतरे का सामना करना पड़ रहा है। ज्ञापन में कहा गया है कि हनुमंत राव समिति की सिफारिशों को दरकिनार किया गया है। आज भी टिहरी के 415 परिवारों को पुनर्वास की धनराशि नहीं दी जा रही है। टिहरी क्षेत्र को विकसित कर पांचवां धाम घोषित किया जाए। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/मुकुंद-hindusthansamachar.in