पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश से बढ़ा गंगा का जलस्तर, बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन मुस्तैद
पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश से बढ़ा गंगा का जलस्तर, बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन मुस्तैद
उत्तराखंड

पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश से बढ़ा गंगा का जलस्तर, बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन मुस्तैद

news

हरिद्वार, 17 जुलाई (हि.स.)। पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार बारिश के कारण निचले इलाकों में गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। जिससे निचले इलाकों में बाढ़ का खतरा बना हुआ है। जिसको देखते हुए जिला प्रशासन सतर्क हो गया है। हरिद्वार जिले में लगभग 96 गांवों को बाढ़ की दृष्टि से संवेदनशील घोषित किया गया है। वहीं, शहर के जलभराव वाले क्षेत्रों में वाटर पंप, जरनेटर सेट लगाए गए हैं। ताकि समय रहते पानी की निकासी की जा सके। शुक्रवार को जिलाधिकारी सी रविशंकर ने बताया कि हरिद्वार जिले के 96 गांव को चिन्हित किया गया है। जहां गंगा का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। ऐसे इलाकों में बाढ़ चौकियों को सतर्क कर दिया गया है। साथ ही बाढ़ की स्थिति में ग्रामीणों को बाढ़ से बचाने के लिए सामुदायिक भवनों और स्कूलों में शरण दी जाएगी। जल स्तर बढ़ने पर सायरन द्वारा ग्रामीणों को सचेत किया जाएगा। उन्होंने बताया मॉनसून सीजन के लिए शहरी इलाकों में जगह-जगह वाटर पंप, जनरेटर के साथ लगाए गए हैं। पानी भरने पर जल्द पानी की निकासी कर जनजीवन को सामान्य बनाने का प्रयास किया जाएगा। जिलाधिकारी ने बताया कि हर क्षेत्र का एक नोडल अधिकारी बनाया गया है, जो 24 घंटे मॉनसून सीजन में निगरानी रखेंगे। साथ ही टोल फ्री नंबर भी दिया गया है अगर कोई घटना होती है तो तत्काल आधे घंटे के अंदर नोडल अधिकारी वहां पहुंच जाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत-hindusthansamachar.in