नैनीताल में न खाना, न बाल कटाना सुरक्षित, पुलिस ने किया चालान
नैनीताल में न खाना, न बाल कटाना सुरक्षित, पुलिस ने किया चालान
उत्तराखंड

नैनीताल में न खाना, न बाल कटाना सुरक्षित, पुलिस ने किया चालान

news

नैनीताल, 24 जुलाई (हि.स.)। जिला व मंडल मुख्यालय में कोरोना के मामलों में भारी बढ़ोतरी के बावजूद लोग एहतियात नहीं बरत रहे हैं। बल्कि अनलॉक 2.0 में मिली छूट का लोग नाजायज इस्तेमाल कर कोरोना का खतरा और बढ़ा रहे हैं। थोड़ी-बहुत सख्ती जो है भी वह, निचले व मध्यम वर्ग के लोगों में पुलिस के चालान के भय से दिख रही है। पुलिस का भय न हो तो लोग शायद मास्क गले में भी न टांगें। समर्थ व उच्च वर्ग के लोगों में पुलिस का भय भी नजर नहीं आ रहा है। ऐसा ही नजारा शुक्रवार को तल्लीताल बाजार में दिखा। पुलिस ने तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता के निर्देशन में बाल काटने वालों व रेस्टोरेंटों की जांच की तो भारी अनियमितताएं दिखीं। नाइयों के पास लोगों का कोई ब्यौरा नहीं था। वहीं रेस्टोरेंट में भी यही हाल मिला। रेस्टोरेंट में ग्राहकों से आधी-अधूरी जानकारी भरवाई जा रही थी। इस पर पुलिस ने तल्लीताल स्थित एक प्रसिद्ध रेस्टोरेंट के स्वामी मोहन सिंह नेगी, डांठ के पास स्थित प्रतिष्ठान के स्वामी राजेंद्र सिंह निवासी दुर्गा पुर एवं पिछाड़ी बाजार स्थित बारबर शॉप के स्वामी अकरम का चालान किया। उल्लेखनीय है कि गत दिनों नगर के रिजर्व पुलिस लाइन के बारबर की वजह से स्वयं उसे व उसके परिवार के सदस्यों के साथ ही कई पुलिस कर्मियों में कोरोना का संक्रमण हो चुका है। अभियान में वरिष्ठ आरक्षी शिवराज राणा सहित अन्य पुलिस कर्मी शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/नवीन जोशी/मुकुंद-hindusthansamachar.in