नैनीताल जनपद में 113 जंगली फल व सब्जियां भोजन योग्य, इम्यूनिटी बढ़ाने में भी कारगर
नैनीताल जनपद में 113 जंगली फल व सब्जियां भोजन योग्य, इम्यूनिटी बढ़ाने में भी कारगर
उत्तराखंड

नैनीताल जनपद में 113 जंगली फल व सब्जियां भोजन योग्य, इम्यूनिटी बढ़ाने में भी कारगर

news

-कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल के गृह विज्ञान विभाग द्वारा ‘हेल्थ एंड न्यूट्रियन्ट कंटेंट ऑफ एडोलेसेंस एंड यंग वूमन’ विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित नैनीताल, 12 सितम्बर (हि.स.)। कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल के गृह विज्ञान विभाग द्वारा शनिवार को ‘हेल्थ एंड न्यूट्रियन्ट कंटेंट ऑफ एडोलेसेंस एंड यंग वूमन’ विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की गई। इस वर्चुअल संगोष्ठी का उद्घाटन करते हुए कुलपति प्रो. एनके जोशी ने कहा कि हर किशोरी को पोषक तत्वों से युक्त भोजन तथा सभी को प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला भोजन लेना चाहिए। अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. रश्मि पंत ने मुख्य वक्ता के रूप में किशोरियों की विभिन्न समस्याओं व उनके निदान पर चर्चा की, सरकारी योजनाओ की जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि लौह तत्व की कमी से एनीमिया रोग हो सकता है। इसकी दवाइयां अस्पताल से ले सकते हैं। कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल के वनस्पति विज्ञान विभाग के प्रो. ललित तिवारी ने पोषक तत्वों से युक्त आम, आलू, टमाटर, अंगूर, केला की पूर्ण जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नैनीताल जिले में करौदा, पांगरी, तेजपत्ता, लिंगुड़ा, खोणिया, वन पिनालु, करी पत्ता, आंवला, घिघांरू, मेहल, भिलमौड़ा, तिमूर एवं बैर ऐसे हैं, जिनमें फाइबर, सुगर, ट्रैनिन, पौटेशियम, फास्फोरस, नाइट्रोजन, मैग्नेशियम, कैल्शियम, सोडियम, क्रोमियम, मैग्नीज, आयरन, कोबाल्ट, निकिल, कॉपर, जिंक, सेलिनियम, मोलीब्लडेम आदि भरपूर होता है। ऐसी 113 जंगली फल तथा सब्जियां भोजन में प्रयोग की जा सकती हैं। इनमें से बेर में पौटेशियम, मैग्नेशियम, कैल्शियम एवं मैग्नीज सहित सर्वाधिक एंटी आक्सीडेंट, करी पत्ता में फ्लेवनॉइड, आंवला में फिनालिक के गुण उपलब्ध हैं, लिहाजा यह प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर है। विभागाध्यक्ष प्रो. लता पांडे ने वेबिनार की रूपरेखा प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन तथा धन्यवाद डा. छवि आर्या ने किया। गढ़वाल विश्वविद्यालय की विभागाध्यक्ष प्रो. रेखा नैथानी, पंतनगर विश्वविद्यालय की संयुक्त निदेशक शोध एवं प्रसार प्रो. दत्ता ने भी विषय पर जानकारी दी। कार्यक्रम में प्रो. कमल पाण्डे, डा. गीता तिवारी, तूलिका, अनुलेखा बिष्ट, डा. रितेष शाह, शोधार्थी एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/नवीन जोशी-hindusthansamachar.in