नागरिकों की आस्था से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार: आप
नागरिकों की आस्था से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार: आप
उत्तराखंड

नागरिकों की आस्था से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार: आप

news

पौड़ी, 15 अक्टूबर (हि.स.)। आम आदमी पार्टी ने उत्तराखंड सरकार पर नागरिकों की आस्था के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि सरकार गंगा के वैभव से खिलवाड़ कर रही है। जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने मां गंगा का नाम बदलकर देवधारा रख दिया है। महाकुंभ जैसे पर्व से पहले सरकार की इस अनैतिक कार्यशैली का पुरजोर विरोध किया जाएगा। गुरुवार को जनपद मुख्यालय पौड़ी में पत्रकार वार्ता के दौरान आम आदमी पार्टी के सेक्टर प्रभारी निशांत रौथाण ने कहा कि वर्ष 2016 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने मां गंगा का नाम स्कैप चैनल रखा। भाजपा ने उस समय सत्ता में आते ही मां गंगा का नाम पुनः वापस रखने की बात कही। लेकिन सत्ता में चार साल रहने के बाद अब प्रदेश सरकार ने मां गंगा का नाम वापस रखने के स्थान पर देवधारा रख दिया है। जिससे देशवासियों की भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की इस अनैतिक कार्यशैली का आम आदमी पार्टी ने विरोध किया। जिसके बाद प्रदेश अध्यक्ष सहित अनेक कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को नोटिस भेजे गए हैं। सेक्टर प्रभारी रौथाण ने कहा कि मां गंगा के वैभव से आप पार्टी कोई खिलवाड़ नहीं होने देगी। इसके लिए कार्यकर्ता जान की बाजी लगाने के तैयार हैं। उन्होंने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सहित अन्य को मिले नोटिस की प्रतियां फाड़कर विरोध भी जताया। पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता व पूर्व जिला पंचायत सदस्य मनोहर लाल पहाड़ी व गजेंद्र चौहान ने कहा कि भाजपा हिंदुत्व की बात करती है, लेकिन मां गंगा के नाम को बदलकर उसने जनभावनाओं से खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी बेहतर शिक्षा, ग्राम क्लीनिक सहित जनहित के मुद्दों पर चुनाव लड़ेगी। पहाड़ी ने चारधाम यात्रा के लिए देवप्रयाग, सबदरखाल, पौड़ी, बुआखाल होते हुए आदिबद्री को जोड़कर वनवे बनाए जाने की मांग भी की। उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता कोविड काल में गांव-गांव, घर-घर जाकर ऑक्सीमीटर के माध्यम से लोगों की जांच कर रहे हैं। इस अवसर पर विजय मोहन रावत, कीर्ति सिंह चौहान, अब्बल सिंह, धीरज कोली, मनोज चौहान, ठाकुर सिंह नेगी, श्रीधर पंवार आदि शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/राज-hindusthansamachar.in