टिहरी कलेक्ट्रेट में कर्मचारियों का धरना
टिहरी कलेक्ट्रेट में कर्मचारियों का धरना
उत्तराखंड

टिहरी कलेक्ट्रेट में कर्मचारियों का धरना

news

प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ जांच वापस लेने की मांग मांग पूरी न होने पर दी आंदोलन की चेतावनी नई टिहरी, 10 सितम्बर (हि.स.)। उत्तराखंड जनरल ओबीसी इंप्लाइज एसोसिएशन टिहरी शाखा से जुड़े कर्मचारियों ने एक दिवसीय धरना देकर एशो. के प्रांतीय अध्यक्ष के खिलाफ की जा रहीं जांच को वापस लेने की मांग की है। कर्मचारियों ने कहा कि जल्द मांग पूरी नहीं हुई तो आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। गुरुवार को उत्तराखंड जनरल ओबीसी इंप्लाइज एसोसिएशन कर्मचारी संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष दीपक जोशी के खिलाफ सरकार द्वारा की जा रहीं जांच का विरोध करते हुए एशो. से जुड़े कर्मचारियों ने कलक्ट्रेट परिसर में एक दिवसीय धरना दिया। संगठन के जिलाध्यक्ष डीपी चमोली ने कहा कि बीते मार्च माह में कर्मचारियों ने मांगों को लेकर एशो. के बैनर तले आंदोलन किया गया था। आंदोलन के दौरान कर्मचारियों द्वारा सरकार के विरुद्ध बयान दिया जाना एक सामान्य प्रक्रिया है। लेकिन सरकार ने इसे प्रतिष्ठा का सवाल बनाते हुए एशो. के प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ जांच करवा रहीं है। जो भविष्य में कर्मचारी संगठन और कर्मचारियों के हित में उचित नहीं है। सरकार अध्यक्ष के खिलाफ जांच करवाकर कर्मचारियों की आवाज दबाना चाहती है। कर्मचारी संगठन सरकार के इस फैसले का विरोध करते है। धरने के दौरान कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जांच को तत्काल वापस लेने की मांग की है। जल्द मांग न माने जाने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है। उन्होंने बताया कि आगामी रविवार को एशो. के पदाधिकारियों की ऑनलाइन बैठक होगी, जिसमें आगे की रणनीति तय की जाएगी। धरने पर बैठने वालों में संगठन मंत्री राकेश भट्ट, प्रवक्ता कमलनयन रतूड़ी, राजीव नेगी, निर्मल नेगी, जीतमणी भट्ट, मनोहर कुड़ियाल, बृजेश राणा, दिवाकर अंथवाल, इंद्रेश नौटियाल, सुनील बडोनी, महावीर रावत, सतवीर रावत, आशीष रावत, भुवनेश्वर सेमवाल, देवेंद्र रावत आदि मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल-hindusthansamachar.in