जिला पर्यावरण योजना की तैयारी पर कार्यशाला
जिला पर्यावरण योजना की तैयारी पर कार्यशाला
उत्तराखंड

जिला पर्यावरण योजना की तैयारी पर कार्यशाला

news

गोपेश्वर, 18 अक्टूबर (हि.स.)। गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण संस्थान के तत्वावधान में जिला पर्यावरण योजना की तैयारी को लेकर कलेक्ट्रेट सभागार में रविवार को परामर्शी कार्यशाला आयोजित की गई। वैज्ञानिकों ने पर्यावरण संतुलन के उपायों पर गहनता से चर्चा की। साथ ही उत्तराखंड प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड देहरादून से वित्त पोषित प्रोजेक्ट का जिला पर्यावरण प्रबंधन प्लानिंग से संबंधित होने वाले कार्यकलापों का विभिन्न विभागों के अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुतीकरण दिया। कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने की। जिलाधिकारी ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण बेहद जरूरी है। इसके संतुलन को बनाए रखने के लिए हम लोगों को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। जिलाधिकारी ने नगर निकाय, जल संस्थान, विकास प्राधिकरण, परिवहन, फाॅरेस्ट आदि विभागों को ठोस कार्य योजना बनाने के साथ ही शीघ्र अति शीघ्र प्रस्तावित किए गए प्रारूप को भरकर पर्यावरण संस्थान अल्मोड़ा को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। जीबी पंत हिमालय पर्यावरण संरक्षण के वैज्ञानिक डॉ. जेसी कुनियाल ने सोलेट बेस्ट मैनेजमेंट, बायोमेडिकल बेस्ट, प्लास्टिक बेस्ट मैनेजमेंट, वायु प्रदूषण आदि पर्यावरण संरक्षण से संबंधित कार्यों के बेहतर निस्पादन को पर जोर दिया। उन्होंने जिला पर्यावरण योजना में 14 संबंधित सिमेटिक क्षेत्रों की विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान पर्यावरण संस्थान के मृदा वैज्ञानिक डॉ सुमित राय, ग्लेशियर वैज्ञानिक डॉ. कपिल केसरवानी तथा मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने भी विचार रखे। कार्यशाला में डीएफओ बदरीनाथ आशुतोष सिंह, सीडीओ हंसादत्त पांडे, सीएमओ डॉ. जीएस राणा, एसडीएम बुशरा अंसारी, जिला कार्यालय के प्रभारी अधिकारी कुमकुम जोशी, सीवीओ डॉ. शरद कुमार भंडारी, ईओ नगर पालिका अनिल पंत आदि ने हिस्सा लिया। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश/मुकुंद-hindusthansamachar.in