जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में टालमटोल न करें बैंक: जिलाधिकारी
जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में टालमटोल न करें बैंक: जिलाधिकारी
उत्तराखंड

जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में टालमटोल न करें बैंक: जिलाधिकारी

news

हरिद्वार 17 सितम्बर (हि स.)। जिलाधिकारी सी. रविशंकर की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय परामर्शदात्री समिति की बैठक आयोजित हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने स्पष्ट रूप से बैंकों को निर्देश दिये कि वह बैंको के माध्यम से चलने वाली सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के लाभ में टालमटोल करने वाले बैंकों पर कार्रवाई करने से नहीं चूकेंगें। उन्होंने कहा कि जिन बैंकों का प्रदर्शन अच्छा होगा उन्हें प्रोत्साहित किया जायेगा तथा जिनका प्रदर्शन अच्छा नहीं होगा, उनकी जिम्मेदारी तय की जायेगी। सी. रविशंकर ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जन कल्याणकारी योजनाओं तथा अन्य ऋण सम्बन्धी जो भी आवेदन उन्हें प्राप्त हों, उन पर तत्काल कार्रवाई करें तथा जो पात्र व्यक्ति हैं उन्हें स्वीकृति तुरन्त प्रदान करें तथा जिन आवेदनों में कोई कमी है तो उस कमी का उल्लेख करते हुये आवेदन अस्वीकृत होने के कारण का उल्लेख करते हुये 15 दिन के भीतर आवेदक को सूचित कर दें। अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के अन्तर्गत हरिद्वार जनपद में 6 लाख 88 हजार बैंक खाते खोले जा चुके हैं। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत 2 लाख 97 हजार 443 व्यक्तियों को बीमित किया जा चुका है, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के अन्तर्गत 1 लाख 15 हजार 493 व्यक्तियों को बीमित किया जा चुका है, अटल पेंशन योजना के अन्तर्गत 54 हजार 913 व्यक्तियों को पेंशन का लाभ दिया जा चुका है, अब तक 87.35 प्रतिशत सक्रिय जमा खातों में आधार सीडिंग की जा चुकी है, सूचना प्रौद्यागिकी आधारित वित्तीय समावेशन को प्रेरित किया जा रहा है, जनपद में ऋण-जमा अनुपात का प्रतिशत 62.60: है। पर्वतीय राज्यों के लिये लक्ष्य त्र 40: है, कृषकों की आय को वर्ष 2022 तक दोगुना करने के लिये अधिकाधिक ऋण वितरित किये जाने है, जनपद में 26843 कृषि कार्ड बनाये गये हैं, प्रधान मंत्री रहेड़ी-पटरी आत्म निर्भर निधि के अन्तर्गत जनपद में विभिन्न बैंकों को 227 ऋण आवेदन भेजे गये , जिनमें से 118 आवेदन स्वीकृत किये गये है। शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत 97 के लक्ष्य के विरूद्ध जनपद में विभिन्न बैंकों को 51 ऋण आवेदन भेजे गये, जिनमें से 23 आवेदन स्वीकृत किये गये। बैठक में विभिन्न बैंको तथा उत्तरांचल ग्रामीण बैंक सेे सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे। हिन्दुस्थानसमाचार/रजनीकांत-hindusthansamachar.in