गैनोडर्मा मशरूम उत्पादन की संभावना पर चर्चा
गैनोडर्मा मशरूम उत्पादन की संभावना पर चर्चा
उत्तराखंड

गैनोडर्मा मशरूम उत्पादन की संभावना पर चर्चा

news

नई टिहरी, 16 सितम्बर (हि.स.)। वीर चंद्र सिंह गढ़वाली उत्तराखंड औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अजीत कुमार की अध्यक्षता में वैज्ञानिक सलाहकार समिति में गैनोडर्मा मशरूम उत्पादन और उसकी संभावना के साथ अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई। वानिकी महाविद्यालय रानीचौरी के अतिथि गृह में आयोजित इस बैठक में विश्वविद्यालय के निदेशक प्रो सी. तिवारी ने औषधीय एवं सुगन्ध पौध, शीतोषण फलों तथा हेजलनेटए चेस्टनट आदि स्थानीय फलों को बढ़ावा देने का सुझाव दिया। प्रभारी अधिकारी केवीके रानीचौरी डॉ आलोक येवले ने केन्द्र की कार्ययोजना से अवगत कराया। निदेशक शोध प्रो राजेश कौशल ने सेब तथा अन्य शीतोष्ण फलों की तकनीकी तथा प्रबन्धन के बारे अवगत कराया। प्रो. बीपी नौटियाल ने पुष्प तथा औषधीय एवं सुगन्ध पौधों आदि के माध्यम से किसानों की आय बढ़ाने के सम्बन्ध में सुझाव दिए। प्रो. बीपी खण्डूरी ने संतुलित मात्रा में उरर्वकों के इस्तेमाल के बारे में सुझाव दिए। डॉ. अरविन्द विजलवाण ने गैनोडर्मा मशरूम उत्पादन और उसकी सम्भावनाओं के बारे में सभी को अवगत कराया। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/मुकुंद-hindusthansamachar.in