किसानों की भूमि कटाव को रोकने के लिए गौला नदी पर स्थायी तटबंध बनवाने की मांग
किसानों की भूमि कटाव को रोकने के लिए गौला नदी पर स्थायी तटबंध बनवाने की मांग
उत्तराखंड

किसानों की भूमि कटाव को रोकने के लिए गौला नदी पर स्थायी तटबंध बनवाने की मांग

news

भाकपा (माले) प्रतिनिधिमंडल ने अपरजिलाधिकारी को सौंपा मांग पत्र हल्द्वानी, 23 जुलाई (हि.स.)। लगातार बारिश व गौला नदी के उफान पर आने से तटीय क्षेत्रों में बसे किसानों की भूमि का लगातार कटाव हो रहा है। इसको लेकर भाकपा (माले) का एक प्रतिनिधिमंडल जिला सचिव डॉ. कैलाश पाण्डेय के नेतृत्व में जिलाधिकारी के कैम्प कार्यालय में अपरजिलाधिकारी से मिला। इस मौके पर पार्टी के राज्य कमेटी सदस्य ललित मटियाली व कमल जोशी भी शामिल थे। इस मौके पर माले नेताओं ने बताया कि पिछले वर्ष भाकपा (माले) की मांग पर प्रशासन ने बिन्दुखत्ता क्षेत्र में चैनल का निर्माण किया गया था, लेकिन करोडों रुपये खर्च करने के बाद भी वह चैनल टूट गया और नदी का बहाव फिर से आबादी की ओर हो रहा है। नदी के कटान से कई किसानों की कृषि भूमि कटकर गौला नदी में समा गई है और अस्थायी तटबंध भी टूट गए हैं। माले जिला सचिव डॉ कैलाश पाण्डेय ने कहा कि यदि तत्काल कार्यवाही कर चैनल की मरम्मत कर पानी के बहाव को आबादी की ओर से नहीं घुमाया गया तो किसानों की बड़ी आबादी को जान माल का खतरा पैदा हो सकता। उन्होंने मांग की कि प्रशासन को चाहिये दुर्घटना का इंतजार करने के बजाय अभी इस मामले का संज्ञान लेते हुए गौला नदी के तट पर स्थायी तटबंध का निर्माण किया जाय। अपर जिलाधिकारी को सौंपे ज्ञापन में गौला नदी से किसानों की जमीन के कटाव का मुआवजा देने, गौला नदी पर स्थायी तटबंध का निर्माण करने, जब तक स्थायी तटबंध नहीं बनता तब तक गौला नदी पर बने चैनल की मरम्मत की जाये। अपर जिलाधिकारी ने इस पर तत्काल कार्यवाही का आश्वासन दिया है। हिन्दुस्थान समाचार/अनुपम गुप्ता-hindusthansamachar.in