कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन
उत्तराखंड

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

news

उत्तरकाशी, 12 सितम्बर (हि.स.)। सूबे की त्रिवेंद्र सरकार की बेरोजगार व युवा विरोधी नीतियों व राज्य में बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दों पर "त्रिवेंद्र सरकार रोजगार दो वरना गद्दी छोड़ दो" मुहिम के तहत शनिवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा उत्तरकाशी में धरना प्रदर्शन किया गया। प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण के नेतृत्व में युवा कांग्रेस उत्तरकाशी के बैनर तले जिला मुख्यालय उत्तरकाशी में त्रिवेंद्र सरकार की बेरोजगार व युवा विरोधी नीतियों व राज्य में बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दों पर धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए सभी युवा वक्ताओं ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर युवाओं की अनदेखी करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राज्य में विकराल होती बेरोजगारी दर को नियंत्रित करने में भाजपा सरकार पूरी तरह से असफल साबित हुई है। पूर्व विधायक सजवाण ने कहा कि युवाओं के रोजगार के लिए सरकार के पास कोई नीति नही है। यहां का युवा आज अपने आप को ठगा महसूस कर रहा है। पिछले साढ़े तीन सालों से न तो समूह 'ग' की कोई भर्ती संचालित की गयी और न ही पीसीएस के पद भरे गए। फारेस्ट गार्ड की भर्ती प्रक्रिया भी धांधली की वजह से ठप पड़ी है। उन्होंने कोरोना बजट के अंतर्गत आउटसोर्स किये जा रहे पीआरडी जवानों की भर्ती प्रक्रिया में भी स्थानीय स्तर पर धांधली का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जिस तरह इन आउटसोर्स पदों पर भी केवल चहेतों को नियुक्त किया जा रहा है, जिससे स्थानीय बेरोजगार युवा आक्रोशित है। भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि जो सरकार युवाओं के रोजगार के लिए कोई ठोस नीति नही बना पा रही है, उसे सत्ता में रहने का कोई हक नही है। कांग्रेस की तिवारी सरकार के दौरान वर्ष 2004 में उनके अथक प्रयासों से उत्तरकाशी की गंगा घाटी में बंद पड़ी जलविद्युत परियोजनाओं को खुलवाकर तत्कालीन समय मे युवाओं के रोजगार के लिए एक ठोस नींव रखी गयी थी, किन्तु आज इतना भारी बहुमत और डबल इंजन की सरकार होने के बावजूद बन्द पड़ी परियोजनाओं को खोलने का कोई प्रयास सरकारी स्तर पर नहीं किया जा रहा है। 2017 के विधानसभा और लोकसभा चुनावों में भाजपा के घोषणा पत्र में युवाओं को रोजगार देने का वायदा आज केवल जुमला साबित हो रहा है। हिन्दुस्थान समाचार// चिरंंजीव सेमवाल-hindusthansamachar.in