उत्तराखंड : 51 अधिवक्ताओं के खिलाफ शिकायतों की जांच करने को बनीं समितियां
उत्तराखंड : 51 अधिवक्ताओं के खिलाफ शिकायतों की जांच करने को बनीं समितियां
उत्तराखंड

उत्तराखंड : 51 अधिवक्ताओं के खिलाफ शिकायतों की जांच करने को बनीं समितियां

news

नैनीताल, 07 सितम्बर (हि.स.)। उत्तराखंड बार काउंसिल को राज्य के हाई कोर्ट एवं जिला कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे 51 अधिवक्ताओं के खिलाफ गंभीर शिकायतें मिली हैं। बार काउंसिल ने इन अधिवक्ताओं के खिलाफ आईं शिकायतों की जांच के लिए दो-दो सदस्यीय पांच समितियों का गठन किया है, जो अपनी जांच रिपोर्ट बार काउंसिल को सौंपेंगी और काउंसिल के परीक्षण के बाद कार्रवाई के लिएबार काउंसिल ऑफ इंडिया को अपनी सिफारिश भेजी जाएगी। शिकायतकर्ताओं में हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार तथा आरोपित अधिवक्ताओं में नैनीताल, चमोली, हरिद्वार, काशीपुर, हल्द्वानी, ऋषिकेश, कोटद्वार के अधिवक्ता शामिल बताए हैं, जबकि शिकायतों में फर्जी डिग्री से वकालत करने के साथ ही अधिवक्ता अधिनियम की धारा-36बी के तहत मामलों को प्रतिपक्षी से मिलीभगत कर निपटाने के आरोप भी शामिल है। आरोपित अधिवक्ताओं में सरकार की ओर से हाई कोर्ट में महत्वपूर्ण पदों पर नामित दो अधिवक्ता भी शामिल बताए गए हैं। समितियों में उत्तराखंड बार काउंसिल के चेयरमैन सुरेंद्र पुंडीर, उपाध्यक्ष राजवीर सिंह बिष्ट, बार काउंसिल सदस्य नंदन सिंह कन्याल, अर्जुन पंडित, अर्जुन भंडारी, कुलदीप सिंह, मेहरबान सिंह कोरंगा, राकेश गुप्ता, प्रभात चौधरी भी हैं। बार काउंसिल के सचिव विजय सिंह ने बताया कि वास्तव में वर्चुअल आधार पर वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह पुंडीर की अध्यक्षता में हुई बैठ में यह मामले उठे थे। बताया गया है कि उत्तराखंड बार काउंसिल चार हजार अधिवक्ताओं की पत्रावलियों का सर्टिफिकेट एंड प्लेस ऑफ प्रेक्टिस के नियम-2015 के तहत निरीक्षण कर चुका है। इन सभी को जल्द बार काउंसिल का सदस्यता प्रमाण पत्र जारी कर दिये जायेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/नवीन जोशी-hindusthansamachar.in