उत्तराखंड विधानसभाः कोरोना की वजह से मानसून सत्र में सरकार ने मीडिया से बढ़ाई दूरी
उत्तराखंड विधानसभाः कोरोना की वजह से मानसून सत्र में सरकार ने मीडिया से बढ़ाई दूरी
उत्तराखंड

उत्तराखंड विधानसभाः कोरोना की वजह से मानसून सत्र में सरकार ने मीडिया से बढ़ाई दूरी

news

पत्रकार दीर्घा, दर्शक एवं अधिकारी दीर्घा में किसी को प्रवेश पत्र जारी नहीं किया जाएगाः विधानसभा अध्यक्ष देहरादून, 11 सितम्बर (हि.स.)। उत्तराखंड विधानसभा का 23 सितम्बर से प्रारंभ होने वाले मानसून सत्र के लिए की जाने वाली सुरक्षा व्यवस्था तथा आनुषंगिक व्यवस्थाओं पर विचार-विमर्श हेतु विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विधान सभा भवन में आज उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कोविड-19 महामारी के इस दौर में सत्र को भलीभांति चलाए जाने के लिए सभी अधिकारियों से सहयोग की अपेक्षा की। इस अवसर पर बैठक के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने विधानसभा सचिवालय और पुलिस विभाग के अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह से चाकचौबंद रखने के निर्देश दिए। उन्होंने सत्र के दौरान आवश्यक व्यवस्थाओं को भी जल्द से जल्द पूरा करने को कहा। कोरोना संक्रमण को देखते हुए उन्होंने विधानसभा परिसर के अंदर व सभा मंडप में जारी प्रवेश पत्र एवं सुरक्षा चेकिंग, वाहनों की पार्किंग को लेकर चर्चा की। उन्होंने निर्देश दिए कि वाहन चिह्नित स्थानों पर ही पार्क किए जाएं। अग्निशमन दल, चिकित्सा विभाग, एंबुलेंस की व्यवस्था कर ली जाए। बिजली व पानी की सुचारु आपूर्ति में कोई व्यवधान न आए। पत्रकारों से बातचीत के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने अवगत कराया कि सभी विधायकों को अपने क्षेत्रों में अथवा विधायक निवास, देहरादून में सत्र से पहले कोरोना का आरटी पीसीआर टेस्ट कराना अनिवार्य होगा। सत्र के दौरान टेस्ट रिपोर्ट विधायकों द्वारा विधानसभा को देनी होगी। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि विधानसभा के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाया जाएगा। साथ ही प्रवेश द्वार पर सभी आगंतुकों की थर्मल स्कैनिंग की जायेगी। स्वास्थ्य विभाग को सत्र के दौरान आवश्यक चिकित्सा दल, दवाइयों की व्यवस्था सुनिश्चित करने एवं मुस्तैदी से कार्य करने के लिए निर्देशित किया गया है। साथ ही विधानसभा चिकित्सालय में स्थित पैथोलॉजी लैब को क्रियाशील करने की बात कही गई है। सत्र के दौरान मुख्य द्वार से ही सदन तक सभी को सैनिटाइज करवाया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि 65 वर्ष से अधिक उम्र के सदस्यों सहित सभी विधायकों को सदन की कार्यवाही से वर्चुअल जुड़ने का आग्रह किया जा रहा है। जो विधायक वर्चुअल अपने विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा की कार्यवाही से जुड़ना चाहते हैं, उन्हें उनके जिला मुख्यालय में एनआईसी के माध्यम से भी व्यवस्था उपलब्ध करायी जाएगी। सत्र के दौरान विद्युत आपूर्ति, पानी की व्यवस्था एवं साफ सफाई चौक चौबंद रखने के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। बैठक के दौरान रेस कोर्स स्थित विधायक निवास में सुरक्षा, स्वच्छता को लेकर भी अधिकारियों को कोराना को देखते हुए व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने के दिशा निर्देश दिए गये हैं। कोविड-19 के दृष्टिगत इस बार मानसून सत्र के दौरान पत्रकार दीर्घा, दर्शक दीर्घा एवं अधिकारी दीर्घा में किसी व्यक्ति को प्रवेश पत्र जारी नहीं किया जाएगा। सत्र के दौरान गैर सरकारी व्यक्तियों को परिसर में प्रवेश की अनुमति प्राप्त नहीं होगी।विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि विधानसभा की कार्यवाही सूचना विभाग के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी। विधानसभा परिसर में विधायकों के साथ आने वाले सहवर्ती का प्रवेश वर्जित किया गया है। पूर्व विधायकों को भी परिसर में आने से बचने का अनुरोध किया गया है। सत्र के दौरान अधिकारियों को विधानसभा परिसर में अलग हॉल में बैठने की व्यवस्था की जाएगी, जिसमें की स्क्रीन के माध्यम से सत्र का लाइव प्रसारण दिखाया जाएगा। इस अवसर पर मुख्य सचिव ओमप्रकाश, डीजीपी अनिल रतूड़ी, सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी, सचिव राज्य सम्पत्ति आर के सुधांशु, डीआईजी विमला गुंज्याल, आईजी गढ़वाल अभिनव कुमार, देहरादून जिला अधिकारी आशीष श्रीवास्तव, सचिव बीएस मनराल, डीजी सूचना विभाग एमएस बिष्ट, अपर सचिव गृह अतर सिंह चौहान, एसएसपी अरुण मोहन जोशी, स्वास्थ्य महानिदेशक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी देहरादून, उत्तराखंड के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल सहित शासन एवं विभिन्न विभाग के उच्च अधिकारी मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/दधिबल-hindusthansamachar.in