उत्तराखंड के सरकारी भवनों में दिखेगी पहाड़ी शिल्प कला: मुख्यमंत्री
उत्तराखंड के सरकारी भवनों में दिखेगी पहाड़ी शिल्प कला: मुख्यमंत्री
उत्तराखंड

उत्तराखंड के सरकारी भवनों में दिखेगी पहाड़ी शिल्प कला: मुख्यमंत्री

news

- कहा उत्तराखंड में कम हो रहा है पत्थरों का काम - पहाड़ी शिल्प कला को संरक्षित करने के लिए नए बनने वाले सरकारी भवनों में होगा प्रयोग पौड़ी, 12 सितम्बर (हि.स.)। राज्य में नए बनने वाले सरकारी भवनों में अब पहाड़ी भवन शैली दिखेगी। विलुप्त हो रही पहाड़ी भवन शैली को संरक्षित किए जाने के सरकार ने सरकारी भवनों को पहाड़ी शैली में बनाने का निर्णय लिया है। सीएम त्रिवेंद्र रावत ने चिंता जताते हुए कहा कि पहाड़ में भवन निर्माण के दौरान पत्थरों का कार्य समाप्ति की ओर जा रहा है। शनिवार को पौड़ी शहर पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भवन निर्माण में पहाड़ी शैली को बढ़ावा दिए जाने की बात कही। त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि पहाड़ों में भवन निर्माण एक कला है, जो अब विलुप्त हो रही है। गांवों में भी अब भवन निर्माण के लिए ईंटों का प्रयोग किया जा रहा है। सीएम रावत ने कहा कि मैं ईटों के प्रयोग को बुरा नहीं कह रहा हूं लेकिन पहाड़ की भवन निर्माण शैली एक बेहतरीन कला है, जो समाप्ति की ओर जा रही है। सीएम रावत ने कहा कि इसको संरक्षित किए जाने के लिए हमने निर्णय लिया है कि अब जितने भी सरकारी भवन बन रहे हैं, उनमें उत्तराखंड की शिल्प कला दिखनी चाहिए। इसलिए नए बनने वाले सरकारी भवनों में पहाड़़ी भवन शैली का प्रयोग किया जाएगा। भवन को देखकर लगना चाहिए कि यह उत्तराखंड राज्य का भवन है। मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि मास्टर प्लान वाले शहरों में यदि कोई पहाड़ी शिल्प का प्रयोग करता है तो उसे एक फ्लोर की अतिरिक्त अनुमति दी जाएगी। सरकारी भवनों में स्थानीय पत्थर का प्रयोग किया जाएगा, जिससे विलुप्त हो रही शिल्प कला को संरक्षण मिलेगा। साथ ही कारीगरों को भी रोजगार मिलेगा। हिन्दुस्थान समाचार/राज-hindusthansamachar.in