उत्तराखंडः गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी बोली पर बनाये गए मोबाइल ऐप ‘आखर’ को सीएम ने किया लॉन्च
उत्तराखंडः गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी बोली पर बनाये गए मोबाइल ऐप ‘आखर’ को सीएम ने किया लॉन्च
उत्तराखंड

उत्तराखंडः गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी बोली पर बनाये गए मोबाइल ऐप ‘आखर’ को सीएम ने किया लॉन्च

news

देहरादून, 16 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में कर्नल (रिटा.) डॉ. डीपी डिमरी एवं उनके सहयोगियों द्वारा उत्तराखंड की तीन क्षेत्रीय बोलियों गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी पर बनाए गए मोबाइल ऐप ‘आखर’ शब्दकोष का विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि क्षेत्रीय भाषा एवं बोलियों के प्रति लोगों का रुझान बढ़े, इस दिशा में यह एक सराहनीय प्रयास है। हमें अपनी भाषा, बोलियों एवं संस्कृति के संरक्षण के लिए निरन्तर प्रयास करने होंगे। किसी भी क्षेत्र की बोली, भाषा एवं संस्कृति ही उस क्षेत्र की विशिष्टता बताती है। इस मौके पर डॉ. डीपी डिमरी ने कहा कि यह प्रयास क्षेत्रीय भाषाओं को सीखने के इच्छुक युवाओं व इन भाषाओं में रुचि रखने वाले लोगों के लिए बनाया गया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की क्षेत्रीय भाषाओं पर कई विस्तृत शब्दकोष उपलब्ध हैं लेकिन आवश्यकता पड़ने पर उनका शीघ्र उपलब्ध हो पाना कठिन होता है। इसलिए लघु रूप में डिजिटल शब्दकोष उपलब्ध कराने का प्रयास किया गया है। डॉ. डिमरी ने बताया कि इस शब्दकोष को बनाने में उनकी टीम के सदस्यों अरुण लखेड़ा, पूरन कांडपाल, सुश्री नूतन पोखरियाल, सुश्री उर्मिला सिंह एवं सुश्री रेखा डिमरी का सहयोग रहा । हिन्दुस्थान समाचार/दधिबल/मुकुंद-hindusthansamachar.in