अवैध खनन के खिलाफ अनशन कर रहे स्वमी शिवानंद 30 अगस्त से चार गिलास पीयेंगे सिर्फ पानी
अवैध खनन के खिलाफ अनशन कर रहे स्वमी शिवानंद 30 अगस्त से चार गिलास पीयेंगे सिर्फ पानी
उत्तराखंड

अवैध खनन के खिलाफ अनशन कर रहे स्वमी शिवानंद 30 अगस्त से चार गिलास पीयेंगे सिर्फ पानी

news

हरिद्वार, 20 अगस्त (हि.स.)। मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने केंद्र सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए 30 अगस्त से मात्र चार गिलास जल लेकर तपस्या (अनशन) करने का ऐलान किया है। स्वामी शिवानंद पिछले 17 दिन से पांच गिलास जल लेकर तपस्या कर रहे हैं। गुरुवार को उनकी तपस्या का 18 वां दिन है। इस बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकार की ओर से उनकी कोई सुध नहीं ली गई। जबकि पूर्व में केंद्र सरकार की ओर से उन्हें मांगों को लेकर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया था। लेकिन कार्रवाई नहीं होने पर स्वामी शिवानंद को दोबारा तपस्या पर बैठना पड़ा है। मातृ सदन के स्वामी शिवानंद गंगा में अवैध खनन को लेकर विरोध जता रहे हैं। कोरोना संकट के दौरान केंद्र सरकार के आश्वासनपर उन्होंने अपनी तपस्या स्थगित कर दी थी। केन्द्र सरकार के वादे पूरे न होने पर उन्होंने पुनः तपस्या आरंभ कर दी । गुरुवार को स्वामी शिवानंद ने बताया कि मोदी सरकार ने केवल अपने लिखित आश्वासनों का ही उल्लंघन नहीं किया बल्कि जो आश्वासन क्रियान्वित हो चुका था उसका भी उल्लंघन किया है। इस बीच जल संसाधन मंत्री शेखावत से कोई व्यक्ति बात करना चाहता है तो वे बात भी नहीं करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि त्रिवेन्द्र सिंह रावत सरकार नाना प्रकार से षडयन्त्र कर गंगा में जेसीबी और पोकलैण्ड से खनन करवा रही है और स्टोन क्रेशरों को अवैध खनन के माल को खपाने की पूरा छूट दे रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को बार-बार लिखने पर भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। स्वामी शिवानंद ने कहा कि वे अपने पूर्व संकल्प के अनुसार जल की मात्रा को कम करते करते शून्य कर देंगे। वे वर्तमान में ले रहे पांच गिलास पानी की मात्रा 30 अगस्त से घटा कर चार गिलास कर देंगे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत-hindusthansamachar.in