अब हर तहसील में ड्राविंग स्कूल खोलने की योजना
अब हर तहसील में ड्राविंग स्कूल खोलने की योजना
उत्तराखंड

अब हर तहसील में ड्राविंग स्कूल खोलने की योजना

news

गोपेश्वर, 10 सितम्बर (हि.स.)। चमोली जिला प्रशासन ने जनपद की हर तहसील में ड्राविंग स्कूल खोलने की योजना बनाई है। इसके पीछे जिला प्रशासन का मकसद सड़क हादसों में लोगों की आकस्मिक होने वाली मौतों को रोकना है। सहायक सभागीय परिवहन अधिकारी आल्विन राॅक्सी ने बताया कि ड्राविंग स्कूल खोलने के लिए इच्छुक व्यक्ति आरटीओ कार्यालय, कर्णप्रयाग में अपना आवेदन कर सकते है। दरअसल जिला स्तरीय सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में यह बात सामने आई कि जिले में ड्राइवरों की ट्रेनिंग व्यवस्था के लिए एक मात्र ड्राविंग स्कूल कर्णप्रयाग में है। जहां वाहन चालकों को प्रशिक्षण दिया जाता है। लेकिन ड्राइविंग सीखने के इच्छुक जिले के सभी लोगों को यहां आकर ट्रेनिंग लेने में कठिनाइयां होती है। नतीजन लोग अपने परिजनों, दोस्तों से अपने ही क्षेत्र में ड्राविंग सीखते है और ड्राइविंग का सही से प्रशिक्षण न लेने के कारण दुर्घटनाओं का शिकार हो रहे है। यदि प्रत्येक तहसील में पर्याप्त संख्या में मोटर ड्राविंग स्कूल हो तो इस प्रकार होने वाली दुर्घटनाओं में कमी आएगी। साथ ही ड्राविंग स्कूल चलाने से कुछ लोगों को रोजगार भी मिलेगा। एआरटीओ ने बताया कि तहसीलों में ड्राविंग स्कूल खोलने के इच्छुक व्यक्ति आरटीओ कार्यालय कर्णप्रयाग में शीघ्र अपना आवेदन कर सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश पोखरियाल-hindusthansamachar.in