मुख्यमंत्री चाहे जो दावा करें, हकीकत में अस्पतालों के चक्कर लगा रहे कोरोना के मरीज: अखिलेश यादव

मुख्यमंत्री चाहे जो दावा करें, हकीकत में अस्पतालों के चक्कर लगा रहे कोरोना के मरीज: अखिलेश यादव
whatever-the-chief-minister-claims-corona-patients-are-circling-the-hospitals-in-reality-akhilesh-yadav

लखनऊ, 07 मई (हि.स.)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को पार्टी के सभी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और नवनिर्वाचित प्रतिनिधियों को निर्देश दिया है कि वे अपने आप को सुरक्षित रखते हुए अपने गांव, आसपास की जनता की भरपूर सहायता का संकल्प लें और यथासंभव मदद में जुटे रहें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। अब शहरों, महानगरों के बाद ग्रामीण क्षेत्रों तक इसका प्रकोप तेजी से फैल रहा है। गांवों में तो स्वास्थ्य सेवाएं न के बराबर हैं। वहां संक्रमितों की जांच ही नहीं हो रही है। उपचार की बात तो दूर की बात है। यह बात जगजाहिर हो गई है कि प्रदेश में भाजपा सरकार के कुप्रबंधन तथा भ्रष्टाचार ने स्वास्थ्य सेवाओं को बर्बाद कर दिया है और दिन प्रतिदिन हालत बिगड़ती जा रही है। कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या न काम हो रही है और न मौतों का सिलसिला थम रहा है। ऑक्सीजन की कमी से उखड़ती सांसों के दौर में भी भाजपा सरकार संवेदन शून्य बनी हुई है। अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री जी चाहें जो दावे करें हकीकत में कोरोना के मरीज अस्पतालों के चक्कर लगा रहे हैं और एम्बुलेंस में या स्ट्रेचर में इलाज तथा ऑक्सीजन के आभाव में दम तोड़ रहे हैं। दवाएं, इंजेक्शन, सर्जिकल उपकरण, बाजार से गायब हैं। इनकी कालाबाजारी को सरकार रोकने में अक्षम है। समाजवादी पार्टी ने अपनी सरकार के समय में जो स्वास्थ्य सेवाएं शुरू की थी, उन्हें भाजपा सरकार ने आते ही बर्बाद कर दिया। 108, 102, एम्बुलेंस सेवाओं को ध्वस्त कर दी है। रायबरेली और गोरखपुर में एम्स के लिए जमीन समाजवादी सरकार ने दी थी और भाजपा सरकार समय से चालू तक नहीं कर सकी। भाजपा सरकार ने समाजवादी सरकार द्वारा बनाए मेडिकल कॉलेजों के नाम बदलने के सिवाय कोई नए मेडिकल कॉलेज की नींव तक नहीं रखी? आज जब हालात बिगड़े हैं तो उसे अवधशिल्प ग्राम और कैंसर अस्पताल में बदलने की सुध आई है। जनता देख रही है कि भाजपा सरकार में उसकी जिंदगी से कैसे खिलवाड़ हो रहा है हिन्दुस्थान समाचार/दीपक