प्रधानमंत्री के प्रिय मंगल केवट के साथ अभद्रता करने वाला चौकी प्रभारी लाइन हाजिर

प्रधानमंत्री के प्रिय मंगल केवट के साथ अभद्रता करने वाला चौकी प्रभारी लाइन हाजिर
outpost-in-charge-line-spot-for-indecency-with-prime-minister-beloved-mangal-kewat

वाराणसी, 28 जुलाई (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रिय और उनके हाथों सम्मानित होने वाले रामनगर निवासी मंगल केवट के साथ अभद्रता करने वाले कालभैरव चौकी इंचार्ज को पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने बुधवार को लाइन हाजिर कर दिया।

उन्होंने इस मामले का जांच करने के लिए सहायक पुलिस आयुक्त कोतवाली को नियुक्त किया है। सोशल मीडिया में मामला वायरल होने के बाद पुलिस कमिश्नर ने ये कार्यवाही की। खुद पीड़ित मंगल केवट ने भी पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश से शिकायत की थी। पुलिस कमिश्नर ने जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया था।

मंगल केवट नियमित राजघाट मालवीय पुल की सफाई करते हैं। प्रधानमंत्री आदर्श गांव डोमरी के निवासी पेशे से ट्राली चालक हैं। सोशल मीडिया के जरिये प्रधानमंत्री को मंगल केवट के इस नि:स्वार्थ सेवा भाव का पता चला तो उन्होंने अपने वाराणसी दौरे में मंगल को सम्मानित किया था। मंगल ने अपनी बेटी की शादी का पहला निमंत्रण दिल्ली जाकर पीएमओ कार्यालय में दिया था। प्रधानमंत्री ने जवाब में मंगल को बधाई पत्र भेजा था। प्रधानमंत्री ने मंगल के बेटी की शादी में मिले निमंत्रण पर हर्ष जताया था। प्रधानमंत्री ने नवदम्पत्ति को बधाई और शुभकामनाएं दी थी।

मंगल ने अभद्रता की घटना के बारे में मीडिया कर्मियों को जानकारी दी। मंगल के अनुसार सोमवार की शाम राजा दरवाजे से लोहटिया लौट रहे थे। इसी दौरान एक ट्राली चालक को एक दुकानदार के लड़के ने मारकर घायल कर दिया। वहां से उस ट्राली चालक को छुड़ाकर मंगल उसे लेकर मैदागिन चौराहे स्थित कालभैरव पुलिस चौकी पर गये। वहां चौकी इंचार्ज दिनेश प्रसाद यादव से आपबीती सुनाई तो उन्होंने आपा खोकर कहा कि केसरिया पहनकर गुंडई करते हो और अपशब्द बोल दुर्व्यवहार भी किया। सूचना पाते पुलिस चौकी में युवा समाजसेवी अमन कबीर भी पहुंचेे और मंगल के साथ अभद्रता पर विरोध जताया। अमन ने मंगल के बारे में चौकी इंचार्ज को बताया। तब जाकर चौकी प्रभारी ने मंगल को छोड़ तो दिया लेकिन मुकदमा भी कर दिया। मंगल ने फिर पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश से मुलाकात कर पूरे मामले की जानकारी दी।

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर

अन्य खबरें

No stories found.