वाराणसी: नागपंचमी पर कुश्ती दंगल में पहलवानों ने दिखाया दम, अखाड़ों में निभाई गई रस्म

वाराणसी: नागपंचमी पर कुश्ती दंगल में पहलवानों ने दिखाया दम, अखाड़ों में निभाई गई रस्म
वाराणसी: नागपंचमी पर कुश्ती दंगल में पहलवानों ने दिखाया दम, अखाड़ों में निभाई गई रस्म

वाराणसी, 25 जुलाई (हि.स.)। कोरोना संकट काल में लागू 55 घंटे के पूर्ण लॉक डाउन के बीच शनिवार को नागपंचमी पर्व पर पहाड़ी गांव (डीएलडब्लू के पीछे) स्थित शिव मंदिर परिसर में आयोजित कुश्ती दंगल प्रतियोगिता में युवा पहलवानों ने दमखम का परिचय दिया। मौके पर मौजूद लोग शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते नही दिखे। पूछने पर प्रतियोगिता के आयोजकों ने बताया कि त्यौहार पर रस्म अदायगी की गई है। केवल कुश्ती की औपचारिकता निभाई गयी। दो युवा पहलवानों ने अखाड़े में रस्म को निभा दमखम का परिचय दिया। इसी तरह तुलसीघाट स्थित अखाड़ा गोस्वामी तुलसीदास में युवाओं के अलावा महिला पहलवानों ने भी अखाड़े में दमखम दिखाया। श्री संकट मोचन के महंत प्रो.विश्वम्भरनाथ मिश्र ने अखाड़ा परिसर में गोस्वामी तुलसीदास जी के हाथों स्थापित बाल रूप हनुमान और उनके अन्य विग्रहों की पूजा की। प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने बताया कि कोरोना काल में इस वर्ष परम्परा निभाई गयी। कोविड 19 संक्रमण का ध्यान रखते हुए प्रतीक तौर पर परम्परा का पालन किया गया। अखाड़े में नियमित आने वाले पहलवानों ने ही रस्म निभाई है। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.