उप्र : अगस्त में होंगी मुक्त विवि की परीक्षाएं : कुलपति

उप्र : अगस्त में होंगी मुक्त विवि की परीक्षाएं : कुलपति
up-open-university-examinations-will-be-held-in-august-vice-chancellor

- प्रदेश के साठ हजार परीक्षार्थी होंगे सम्मिलित प्रयागराज, 09 जून (हि.स.)। उप्र राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय, प्रयागराज अगस्त के प्रथम सप्ताह में कोविड-19 प्रोटोकॉल के अंतर्गत परीक्षा का आयोजन करेगा। परीक्षा में लगभग 60 हजार परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करते हुए परीक्षा केंद्रों की संख्या में भी वृद्धि की जाएगी। यह जानकारी उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर सीमा सिंह ने दी। उन्होंने बताया कि छात्रों की सहूलियत के लिए एक विषय के सभी प्रश्नपत्रों को एक पेपर में समाहित किया जाएगा। सभी प्रश्नपत्र बहुविकल्पीय आधार पर होंगे। परीक्षार्थियों को ओएमआर आंसर शीट मुहैया कराई जाएगी। बताया कि प्रमाण पत्र एवं डिप्लोमा कार्यक्रमों की परीक्षा के लिए एक घंटे का समय दिया जाएगा। जबकि पीजी डिप्लोमा एवं डिग्री कार्यक्रम की परीक्षा का समय डेढ़ घंटा निर्धारित किया जाएगा। विश्वविद्यालय में नामांकित कार्यक्रमों के अंतिम सेमेस्टर एवं अंतिम वर्ष के छात्रों की ही परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। इसके साथ ही जिन छात्रों को गत वर्ष प्रथम वर्ष एवं प्रथम सेमेस्टर या मध्यवर्ती सेमेस्टर में प्रोन्नत कर दिया गया था उन्हें भी इस बार परीक्षा में सम्मिलित होना होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय शीघ्र ही परीक्षा समिति की बैठक करके परीक्षा सम्बंधी कार्यक्रमों को अंतिम रूप देगा। प्रदेश भर में बारह क्षेत्रीय केन्द्र स्थापित कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के प्रदेश भर में 12 क्षेत्रीय केंद्र प्रयागराज, लखनऊ, बरेली, मेरठ, आगरा, कानपुर, झांसी, आजमगढ़, गोरखपुर, अयोध्या, वाराणसी तथा नोएडा में स्थापित हैं। विश्वविद्यालय का कार्यक्षेत्र सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में होने के कारण परीक्षा केंद्रों के निर्धारण में पूरी तरह पारदर्शिता रखी जाएगी। साथ ही क्षेत्रीय केंद्र समन्वयकों को यह जिम्मेदारी दी जाएगी कि उनके क्षेत्र में बनाए गए परीक्षा केंद्रों में पूर्ण पारदर्शिता के साथ परीक्षा का संचालन हो। उन्होंने बताया कि छात्रों को ऑनलाइन क्लास के साथ ही ऑनलाइन वीडियो लेक्चर की सुविधा प्रदान की गई है। परीक्षा से पूर्व अधिन्यास जमा करने के लिए भी छात्रों को अंतिम मौका प्रदान कर दिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त