up-monitoring-committees-formed-to-prevent-corona-in-rural-areas
up-monitoring-committees-formed-to-prevent-corona-in-rural-areas
उत्तर-प्रदेश

उप्र : ग्रामीण इलाकों में कोरोना को रोकने में 'ढाल' बनीं निगरानी समितियां

news

- ब्लॉक स्तर पर हुई 257845 लोगों की कोविड जांच - 31937797 मकानों का तक पहुंचे समितियों के सदस्य - 374685 रोगियों तक पहुंचाई गई मेडिकल किट - सचल कोविड टेस्ट टीमों ने की 6081 पॉजिटिव केसों की पुष्टि लखनऊ, 13 मई (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में कोरोना महामारी को रोकने में निगरानी समितियां ढाल बन गई हैं। ये समितियां गांव-गांव में कोरोना वायरस के खात्मे के लिये तिगुनी ताकत से आर-पार की लड़ाई में जुटी हैं। गुरुवार को प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि योगी सरकार के निर्देशों पर 60 हजार निगरानी समितियां 03 करोड़ 19 लाख 37 हजार 797 मकानों का तक पहुंची हैं। ब्लॉक स्तर पर चलाए गए इस कोविड जांच महाअभियान में 257845 लोगों की जांच हुई है। 374685 रोगियों तक मेडकिल किट पहुंचाई गई है। वहीं, सचल कोविड टेस्ट टीमों ने की 6081 पाजिटिव केसों की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि समितियों के चार लाख सदस्य प्रतिदिन एक-एक व्यक्ति के घर तक पहुंच रहे हैं। कोरोना की चेन तोड़ने में लगी निगरानी समितियों के सदस्यों ने पिछले 09 से 12 मई तक जनपदों में 31937797 मकानों का भ्रमण किया है। जिनमें लक्षित मकानों की संख्या 33069010 पाई गई है। उन्होंने बताया कि बीमारी के लक्षण वाले लोगों को तत्काल इलाज दिलाया जा रहा है। मेडिकल किट से लेकर होम आईसोलेशन में रहने की गाईडलाइनों से परिचित कराया जा रहा है। जो घरों में आईसोलेट नहीं रह सकते हैं, उनको गांव के ही विद्यालयों, सामुदायिक केन्द्रों व स्वास्थ्य केन्द्रों पर इलाज की मुफ्त सुविधाएं दी जा रही है। प्रवक्ता ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में कोविड समेत अन्य संक्रामक बीमारियों की रोकथाम के लिए बड़े स्तर पर स्वच्छता अभियान चल रहा है। राज्य में इस तरह का अभियान चलाने वाला यूपी देश का पहला राज्य है। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश