उप्र : लखनऊ सहित चार महानगरों में कार्यालयों पर 50 फीसद कर्मचारी रहेंगे कार्यरत : अपर मुख्य सचिव

उप्र : लखनऊ सहित चार महानगरों में कार्यालयों पर 50 फीसद कर्मचारी रहेंगे कार्यरत : अपर मुख्य सचिव
up-50-percent-employees-will-be-employed-at-offices-in-four-metros-including-lucknow-additional-chief-secretary

- कोरोना के बढ़ते मरीजों को लेकर मुख्यमंत्री ने लिया फैसला, शारीरिक दूरी का होगा पालन लखनऊ, 09 अप्रैल (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर इन दिनों पूरे देश में तेजी से फैल रही है। इसमें उत्तर प्रदेश भी अछूता नहीं है, खासकर लखनऊ, कानपुर, प्रयाराज और वाराणसी। इसको देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैसला लिया है इन महानगरों में 50 फीसद ही कर्मचारी सरकारी और निजी कार्यालयों में कार्य कर सकेंगे। यानी जो कर्मचारी जिस दिन कार्यालय पर कार्य में रहेगा वह अगले दिन कार्यालय नहीं आएगा। यह अलग बात है कि तकनीक के जरिये वह घर से कार्य कर सकेगा। यह नियम अगले आदेश आने तक जारी रहेंगे और इससे शारीरिक दूरी का भी पालन आसानी से हो जाएगा। उत्तर प्रदेश में करीब एक सप्ताह से जिस तेजी से कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है उससे शासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग चिंतित हो गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद मॉनिटरिंग कर रहे हैं और कोरोना के ग्राफ को कमजोर करने के लिए तीन महानगरों का जायजा लेने भी पहुंच गये। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते फैलाव पर रोक लगाने के लिए लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज और वाराणसी के सभी सरकारी और निजी कार्यालयों पर शत प्रतिशत कर्मचारी रोजाना काम नहीं करेंगे। यानी कुल कर्मचारियों की संख्या का 50 फीसद ही कर्मचारियों को कार्यालयों पर काम के लिए बुलाया जा सकता है। इसके पीछे एक और कारण यह भी है कि पूरे उत्तर प्रदेश में रोजाना जितने कोरोना पॉजिटिव के केस आ रहे हैं उनमें आधे से अधिक इन्ही महानगरों के हैं। 11 से 14 अप्रैल के बीच मनाया जाएगा टीकाकरण उत्सव अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीकाकरण उत्सव मनाया जाएगा। इसमें सभी जिलों में सरकारी व निजी कार्यालयों में स्वास्थ्य विभाग की टीम जाकर 45 पार लोगों को टीका लगाएगी। सरकार की तरफ से कोविड-19 से बचाव के लिए प्रदेश के विभागों के समस्त स्तरों के कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किए जाने के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश जारी हो गए हैं। बताया कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर ज्यादा संक्रमण वाले चार जिलों में सरकारी व निजी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारी ही बुलाए जाएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ, कानपुर, वाराणसी व प्रयागराज में व्यवस्था लागू करने के निर्देश दिए हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/दीपक