पंचायत चुनाव में दिखी प्रशासन की लापरवाही, मोबाइल की रोशनी पर काम कर रहे कर्मचारी

 पंचायत चुनाव में दिखी प्रशासन की लापरवाही, मोबाइल की रोशनी पर काम कर रहे कर्मचारी
the-negligence-of-the-administration-in-panchayat-elections-employees-working-on-mobile-lights

— कर्मचारियों ने जताई नाराजगी, बिजली और पानी की व्यवस्थाएं रहीं धड़ाम कानपुर, 14 अप्रैल (हि.स.)। देश का कोई भी चुनाव हो जनता के बीच लोकतांत्रिक देश का एहसास कराता है। इसको लेकर चुनाव आयोग चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को जरुरत की सभी सुविधाएं उपलब्ध कराता है, ताकि कोई भी उम्मीदवार किसी कर्मचारी की खातिरदारी न कर सके। लेकिन कानपुर में इससे उलट तस्वीर देखने को मिली और मोबाइल की रोशनी पर कर्मचारी काम करने को मजबूर दिखे। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के पहले चरण के तहत जनपद में गुरुवार को मतदान होना है। बुधवार को अलग—अलग जगहों से पोलिंग पार्टियों को रवाना कर दिया गया। चुनाव आयोग का सदैव की भांति दावा रहा कि कर्मचारियों को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं होगी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। बिधनू विकास खण्ड के पूर्व माध्यमिक विद्यालय जरकला में चुनाव ड्यूटी में भेजे गये कर्मचारियों को असुविधाओं को लेकर भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। सुबह समय से मतदान प्रक्रिया शुरु हो सके इसके लिए कर्मचारी मोबाइल की रोशनी में काम करने को मजबूर दिखे। यही नहीं कोरोना काल में चल रही भीषण गर्मी में पानी की भी व्यवस्था नहीं रही। इन सबके बावजूद नाराजगी जताते हुए कर्मचारियों ने अपनी ड्यूटी का धर्म निभाते हुए अव्यवस्थाओं के बीच अपने कार्य को अंजाम देते दिखे। वहीं उम्मीदवारों ने व्यवस्थाओं को सही करने के लिए प्रयास किया, पर कर्मचारियों ने साफ मना कर दिया। क्योंकि कर्मचारियों की खातिरदारी होने से मतदान को लेकर गांव में गलत संदेश पहुंचता। हिन्दुस्थान समाचार/महमूद/मोहित