The lessons of unity and discipline being taught in NCC to the students of Chitrakoot district
The lessons of unity and discipline being taught in NCC to the students of Chitrakoot district
उत्तर-प्रदेश

चित्रकूट जिले के छात्रों को एनसीसी में पढ़ाया जा रहा एकता और अनुशासन का पाठ

news

- सीआईसी में सीनियर डिवीजन एनसीसी परेड का पहला दौर शुरू चित्रकूट, 09 जनवरी (हि.स.)। चित्रकूट इंटर कॉलेज कर्वी में 43 साल बाद फिर से सीनियर डिवीजन एनसीसी शुरू होते ही छात्रों में खुशी की लहर है। एनसीसी मुख्यालय के निर्देशानुसार हवलदार अमरेंद्र सिंह और सुरेंद्र सिंह भदौरिया ने छात्रों को एकता और अनुशासन का पाठ पढ़ाया। साथ ही एनसीसी के उद्देश्यों को बता कर छात्रों को देश सेवा के लिए सदैव तत्पर रहने का संकल्प दिलाया। एनसीसी के चीफ ऑफिसर ऋषि कुमार शुक्ला ने शनिवार को बताया कि प्रधानाचार्य डॉ रणवीर सिंह चौहान के अथक प्रयासों के परिणामस्वरूप कॉलेज में 43 साल बाद सीनियर डिवीजन एनसीसी की शुरुआत हो गई है। इसके पहले 1962 में इस कॉलेज में जूनियर और सीनियर डिवीजन की एनसीसी संचालित थी। कतिपय कारणों से 1977 में सीनियर डिवीजन एनसीसी समाप्त हो गई थी, जब 2001 में प्रधानाचार्य डॉ रणवीर सिंह चौहान ने कालेज की बागडोर संभाली तो उन्होंने सीनियर डिवीजन एनसीसी पुनः संचालित करने का प्रयास शुरू किया। इस वर्ष सफलता मिली और सीनियर डिवीजन एनसीसी की शुरुआत होते ही छात्रों व अभिभावकों में खुशी की लहर देखी गई। पहली बार कमांडिंग ऑफीसर एनसीसी हेड क्वार्टर 17 यूपी बटालियन एनसीसी प्रयागराज के निर्देश पर हवलदार अमरेंद्र सिंह और सुरेंद्र सिंह ने कैडेट्स को परेड कराई। छात्रों को एनसीसी के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए बताया गया कि एनसीसी के माध्यम से छात्रों में एकता और अनुशासन व राष्ट्रप्रेम की भावना विकसित की जाती है। देश को आपातकाल में जरूरत पड़ने पर इन कैडेट्स की सेवाएं ली जाती हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय कार्यक्रमों सामाजिक कार्यों में भी इन कैडेट्स की सहभागिता होती है। शनिवार को पहली बार परेड मैं शामिल कैडेट्स को प्रधानाचार्य डॉ रणवीर सिंह चौहान ने शुभकामनाएं दी और कहा कि पूरी निष्ठा व अनुशासन में रहकर सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त कर देश व समाज में सेवा के लिए अपने आपको तैयार करें। एनसीसी प्रशिक्षित छात्रों को सरकारी नौकरियों में बोनस अंक मिलते है और फौज तथा पुलिस की भर्ती में तो और भी ज्यादा फायदा मिलता है। फौज की भर्ती में एनसीसी के कैडेटों को प्रथम वरीयता प्राप्त होती है और सीधे कमीशन अफसर बनने का अवसर मिलता है। परेड को सफल संचालन कराने में सीनियर डिवीजन एनसीसी के सीनियर अंडर ऑफिसर सत्यम सिंह अली हसन और जूनियर डिवीजन एनसीसी के सीनियर कुलदीप कुशवाहा, ओमकेश प्रजापति, कौशल सोनी, सतेंद्र कुमार का सराहनीय योगदान है। हिन्दुस्थान समाचार /रतन-hindusthansamachar.in