'संस्कृत वांग्मय में शिव तत्व विमर्श व विश्वमंगल' पर उपमुख्यमंत्री ने अप्रतिम महिमा का किया वर्णन

'संस्कृत वांग्मय में शिव तत्व विमर्श व विश्वमंगल' पर उपमुख्यमंत्री ने अप्रतिम महिमा का किया वर्णन
the-deputy-chief-minister-described-the-unequaled-glory-on-39siva-element-discussion-and-vishwamangal39-in-sanskrit-wangmay

-लखनऊ विवि में अभिनव गुप्त संस्थान सौंदर्य शास्त्रीय तथा शैव दार्शनिक के नवनिर्मित भवन का हुआ लोकार्पण लखनऊ, 23 मार्च (हि.स.)। लखनऊ विश्वविद्यालय के अभिनव गुप्त संस्थान सौंदर्य शास्त्रीय तथा शैव दार्शनिक के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण उपमुख्यमंत्री प्रो. दिनेश शर्मा ने किया। इसके निर्माण में उपमुख्यमंत्री ने लगभग तीन करोड़ रुपये का आर्थिक अनुदान देकर इस भव्य भवन की संकल्पना को पूर्ण किया है। लोकार्पण के बाद इसी भवन में निर्मित प्रो. कांतिचन्द्र पाण्डेय सभागार में संस्कृत वांग्मय में शिव तत्व विमर्श तथा विश्वमंगल विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन उपमुख्यमंत्री ने किया। इस अवसर पर उन्होंने शिव की अप्रतिम महिमा का वर्णन करते हुए इस संस्थान के समुत्थान तथा संगोष्ठी के सफल संपादन की मंगल कामना की। इसके साथ अपने सर्वदा सहयोग के आश्वासन से कार्यक्रम की श्रीवृद्धि की। लोकार्पण कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान के अध्यक्ष डॉ. वाचस्पति मिश्र, संस्थान के पूर्व निदेशक प्रोफेसर नवजीवन रस्तोगी, लखनऊ विश्वविद्यालय की अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. पूनम टंडन, रसायन विभाग के प्रो. वी. के. शर्मा, निर्माण अधीक्षक डॉ. दुर्गेश श्रीवास्तव, कुलानुशासक डॉ. दिनेश कुमार, अर्थशास्त्र विभाग के अध्यक्ष प्रो. मनोज अग्रवाल, वाणिज्य संकाय के आचार्य प्रो. राममिलन, शोध छात्र तथा कर्मचारीगण उपस्थित रहे । गोष्ठी का शुभारम्भ नीमकरौरी बाबा आश्रम के विद्यार्थियों द्वारा मंत्रोच्चारपूर्वक तथा लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र आदर्श द्वारा वैदिक मङ्गलाचरण और छात्रा माण्डवी, गजाला द्वारा सरस्वती वन्दना तथा सौम्या, अमृता द्वारा स्वागत गीत से हुआ। यह राष्ट्रीय संगोष्ठी उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान के सहयोग से आयोजित की जा रही है। इसमें उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान के अध्यक्ष डॉ. वाचस्पति मिश्र विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे तथा उन्होंने संस्कृत के प्रसार हेतु किये जा रहे कार्यों से हमें अवगत कराया। प्रोफेसर नवजीवन रस्तोगी ने अपने वैदुष्य पूर्ण भाषण से गोष्ठी का विषयप्रवर्तन किया तथा अभिनवगुप्त के शैवदर्शन एवं तंत्रालोक के विषय में जानकारी दी। उप उपमुख्यमंत्री ने अभिनव गुप्त संस्थान को वातानुकूलित बनाने तथा इसमे रिक्त शैक्षणिक तथा अन्य पदों पर शीघ्र नियुक्तियां करने का एवं लखनऊ विश्वविद्यालय के लिए हर सम्भव सहयोग करने का आश्वासन दिया। राष्ट्रीय संगोष्ठी के प्रधान आयोजक प्रो. बृजेश कुमार शुक्ल, संस्थान के निदेशक तथा संयोजक डॉ. प्रयाग नारायण मिश्र , समन्वयक अभिनव गुप्त संस्थान ने कुलपति प्रोफेसर आलोक कुमार राय के संरक्षण में इस भव्य आयोजन का सफल संपादन किया। हिन्दुस्थान समाचार/उपेन्द्र/संजय