प्रतिबंधित पॉलिथीन का नहीं थम रहा चलन, विभागों द्वारा संचालित अभियान भी ठप

प्रतिबंधित पॉलिथीन का नहीं थम रहा चलन, विभागों द्वारा संचालित अभियान भी ठप
the-ban-on-polythene-is-not-stopping-the-campaigns-conducted-by-the-departments-also-come-to-a-standstill

कासगंज, 29 अप्रैल (हि.स.)। प्रतिबंधित पालीथिन का चलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। विभागों ने इसे रोकने के लिए अभियान भी चलाए लेकिन इन दिनों अभियान ठप है। बाजारों में छोटे हो या बड़े सभी दुकानदार धड़ल्ले से पालीथिन का प्रयोग कर रहे है। बाजार में दुकान कोई भी हो खरीदार को पालीथिन के थैले में ही सामग्री रखकर दी जाती है। बड़े दुकानदार आकर्षक ढंग से अपने प्रतिष्ठानों के नाम से पालीथिन की थैली तैयार करा लेते है, जबकि छोटे दुकानदार वस्तुओं के लेन-देन में पालीथिन का लगातार प्रयोग करते है। सरकार एवं सरकारी तंत्र समय-समय पर पालीथिन के चलन को रोकने के लिए अभियान संचालित करता है। लेकिन इन दिनों कोरोना काल में सरकारी अभियान पूरी तरह ठप है। नगर निकायों पर इसका जिम्मा है। लेकिन कोविड निकायों द्वारा की जा रही कार्रवाई की व्यस्तता के चलते पालीथिन को लेकर सतर्कता नहीं बरती जा रही है। जिससे बाजारों में बेखौफ पालीथिन का चलन लगातार बढ़ रहा है। पालिका ने काटे चालान, वसूला जुर्माना अधिशासी अधिकारी डॉ.लवकुश गुप्ता का कहना है कि कोरोना काल से पहले नगर पालिका परिषद ने पालीथिन को रोकने के लिए अभियान चलाया। सुबह से लेकर शाम तक कर्मचारी बाजारों में पालीथिन का प्रयोग करने वालों पर नजर रख रहे थे। इस दौरान 100 से अधिक लोगों के चालान काटे गए। लगभग एक लाख रुपये का लोगों से जुर्माना वसूला गया। तीन क्विंटल से अधिक पालीथिन जब्त की गई। अन्य निकायों में भी इस तरह के अभियान चले। लेकिन जब से कोरोना काल प्रारंभ हुआ है तब से अभियान फ्लाप हो गए है। हिन्दुस्थान समाचार/पुष्पेंद्र