गांवों में कोविड मरीजों की पहचान को चलेगा विशेष अभियान

गांवों में कोविड मरीजों की पहचान को चलेगा विशेष अभियान
special-campaign-will-be-conducted-to-identify-kovid-patients-in-villages

- ग्राम की निगरानी समितियां करेंगी क्वॉरेंटाइन सेंटर संचालित, प्रतिदिन होगी समीक्षा झांसी,04 मई (हि.स.)। शासन द्वारा 6 मई के प्रातः 07 बजे तक आशिंक कर्फ्यू को लगाये जाने के निर्देश के क्रम में जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने बताया है कि सरकारी कार्यालयों में 50 प्रतिशत से अधिक की उपस्थिति न हो। शेष 50 प्रतिशत लोग भी शिफ्ट में बुलाये जाये व यथासंभव ’वर्क फ्राम होम की व्यवस्था लागू की जायेगी। उन्होंने बताया कि गांवों में कोविड मरीजों की पहचान को विशेष अभियान चलेगा। ग्राम की निगरानी समितियां क्वॉरेंटाइन सेंटर संचालित करेंगी। यही नहीं इसकी प्रतिदिन समीक्षा होगी। जिलाधिकारी ने कहा है कि उप्र राज्य सड़क परिवहन निगम के माध्यम से प्रदेश के बाहर कोई भी बस न भेजी जाए। बसों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन हो व सैनेटाइजर एवं मास्क का प्रयोग अनिवार्य कर दिया जाये। आवश्यक दवा,सर्जिकल की दुकाने खुली रहेगी। उद्योग पूर्व आदेशों के अन्तर्गत खुले रहेंगे। केवल दैनिक उपयोग की दुकान जैसे सब्जी,फल,दूध व किराना इत्यादि की दुकानों को छोड़कर शेष दुकानें बन्द रहेगी। सब्जी मण्डी,फल मण्डी में भी सोशल डिस्टेसिंग मास्क,ग्लब्ज व सैनिटाइजर की अनिवार्यता रहेगी। बताया कि ग्रामों में कारोना के लक्षणयुक्त व्यक्तियों की पहचान एवं लाईन लिस्टिंग का कार्य किया जाएगा एवं कोविड की दवाई (मेडिकल किट) भी वितरित की जाएगी। इस विशेष अभियान की प्रतिदिन समीक्षा की जाएगी। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का व्यापक प्रयोग कोरोना से बचाव के प्रति जागरूकता के संदेश प्रसारित किये जायेगें। हाई रिक्स कैटेगरी यथा 60 वर्ष से ऊपर अथवा दस वर्ष से कम उम्र के बच्चे अथवा गर्भवती महिलाए एवं एक से अधिक बीमारी से ग्रसित अर्थात कम इम्यूनिटी के लोग बाहर न जाये। उन्होने आम जन से भी अपील की है कि अनावश्यक बाहर न निकले, अपरिहार्य परिस्थितियों में मास्क अनिवार्य रुप से पहन कर ही निकले। टीकाकरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क अनिवार्य होगा। निगरानी समितियों के माध्यम से ग्राम पंचायतों में क्वारंटाइन सेन्टर की स्थापना की जाए एवं जो भी व्यक्ति ग्राम के बाहर से आ रहे है, यदि होम क्यारंटाइन की घर में जगह नहीं है, तो क्यारंटाइन सेंटर में रखा जाए। कन्टेनमेण्ट जोन में आवश्यक सेवाओं के अतिरिक्त अन्य सभी कार्य सख्ती से बाधित रखे जाए तथा सभी शहरी व ग्रामीण क्षेत्रो में फागिंग व सेनेटाइजेशन प्रतिदिन अनिवार्य रुप से सुनिश्चित कराया जाये। जिलाधिकारी ने दिये गये निर्देशों का अक्षरशः पालन कराये जाने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया है। साथ ही उन्होने आगाह करते हुए कहा है कि किसी भी स्तर पर अनुपालन में कोई शिथिल रवैया न अपनाया जाये, लिखा की दशा में कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। इसके लिए उन्होने बिन्दुवार दिशा निर्देश निर्गत किये है। जिसका कडाई से अनुपालन सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश सभी उप जिलाधिकारियों, क्षेत्राधिकारियों एवं अन्य जुडे विभागो के अधिकारियों को दिया है। हिन्दुस्थान समाचार/महेश