शाहनवाज की गिरफ्तारी के बाद प्रियंका का योगी सरकार पर हमला, कहा फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले
शाहनवाज की गिरफ्तारी के बाद प्रियंका का योगी सरकार पर हमला, कहा फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले
उत्तर-प्रदेश

शाहनवाज की गिरफ्तारी के बाद प्रियंका का योगी सरकार पर हमला, कहा फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले

news

- शाहनवाज पर खूंखार आतंकियों की मदद का आरोप, अदालत भी दे चुकी है सजा लखनऊ, 30 जून (हि.स.)। राजधानी लखनऊ में सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन की आड़ में परिवर्तन चौराहे पर उपद्रव करने के आरोप में उप्र कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी के बाद पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर हमला बोला है। प्रियंका ने मंगलवार को एक सीसीटीवी फुटेज अपलोड करते हुए ट्वीट किया कि कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जनता के मुद्दों पर आवाज उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी को नहीं। देखिए किस तरह यूपी पुलिस ने हमारे अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष को रात के अंधेरे में उठाया। प्रियंका वाड्रा ने कहा कि पहले फर्जी आरोपों को लेकर हमारे प्रदेश अध्यक्ष को चार हफ्तों के लिए जेल में रखा। ये पुलिसिया कार्रवाई दमनकारी और आलोकतांत्रिक है। कांग्रेस के सिपाही पुलिस की लाठियों और फर्जी मुकदमों से नहीं डरने वाले। हजरतगंज थाना पुलिस ने कांग्रेस नेता व उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शहनवाज आलम को सोमवार रात मुख्यमंत्री आवास के निकट गोल्फ लिंक अपार्टमेंट के सामने से गिरफ्तार किया गया। शाहनवाज की गिरफ्तारी की खबर मिलते ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू पार्टी के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ हजरतगंज कोतवाली पहुंचे और इसका विरोध किया। उन्होंने सरकार और पुलिस प्रशासन पर तानाशाही का आरोप लगाया। हालांकि पुलिस के सख्त रवैय के आगे कांग्रेस नेताओं की नहीं चली। पुलिस ने विरोध कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को लाठी भांजकर खदेड़ा। शाहनवाज पर खूंखार आतंकियों की मदद का आरोप वहीं जिस शाहनवाज की गिरफ्तारी पर प्रियंका वाड्रा और कांग्रेस बौखलाई हुई है, वह रिहाई मंच नाम का संगठन चलाता था। आरोप है कि ये संगठन बाटला एनकाउंटर में शामिल रहे आतंकियों से लेकर लखनऊ के सीरियल धमाकों में शामिल उन खूंखार आतंकियों तक की मदद करता था जिन्हें बाद में अदालतों तक से सजा हुई। सीएएए के खिलाफ परिवर्तन चौक समेत तमाम जगहों पर हुई हिंसा में पुलिस को इसकी सक्रिय भागीदारी के पुख्ता प्रमाण मिले हैं। सोशल मीडिया के जरिए भी शाहनवाज ने हिंसा भड़काने की पूरी भूमिका अदा की। जिसके परिणामस्वरूप लखनऊ समेत तमाम जगहों पर संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया, पुलिस और निर्दोषों पर हमले हुए। पुलिस के मुताबिक सीएए प्रदर्शन के दौरान शाहनवाज आलम ने हिंसा भड़काई। जिसको लेकर पुलिस ने काफी सारे साक्ष्य इकट्ठा किये हैं। पुलिस अपनी तरफ से तैयार है और वह इस मामले में किसी तरह की राजनीति की इजाजत नहीं देगी। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/राजेश-hindusthansamachar.in