बाढ़ का होगा स्थाई समाधान : सतीश चंद्र द्विवेदी
बाढ़ का होगा स्थाई समाधान : सतीश चंद्र द्विवेदी
उत्तर-प्रदेश

बाढ़ का होगा स्थाई समाधान : सतीश चंद्र द्विवेदी

news

सिद्धार्थनगर, 23 जुलाई (हि.स)। प्रदेश सरकार बाढ़ से बचाव के लिए स्थाई समाधान करने के लिए दृढ़ है। आने वाले समय में क्षेत्र के बांधों के सभी गैप भरने के साथ ही राप्ती एवं बूढ़ी राप्ती नदी के कटा न स्थलों पर ठोकर भी बनवाया जाएगा। यह जानकारी क्षेत्रीय विधायक एवं प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने आज क्षेत्र के राप्ती नदी के कटान वाले स्थलों गागापुर, बेतनार और असनहरा में हो रहे बाढ़ की रोक-थाम के कार्यों के निरीक्षण अवसर पर दी है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में बने बांधों के गैप कई दशक से भरे नहीं गए हैं। जिसके कारण नदियों का पानी बढ़ने से गैप के आस पास के गांवों में बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो जाता है। इसका स्थाई समाधान कराने के लिए सभी गैप को भरने के लिए कार्य योजना बनवाकर भेजा जा चुका है। शीघ्र ही इसकी स्वीकृति मिलते ही गैप भरने का कार्य पूर्ण करा दिया जाएगा। राप्ती एवं बूढ़ी राप्ती नदी के कटन स्थलों की सुरक्षा के लिए भी ठोकर का निर्माण कराने के लिए प्रस्ताव भेजा जा चुका है। उन्होंने सिंचाई निर्माण खण्ड के अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया कि बेतनार और गागापुर सहित अन्य कटान स्थलों की 24 घंटे निगरानी की जाए। कटान होने पर तुरंत रोकथाम के प्रभावी उपाय किए जाएं। श्री द्विवेदी ने कहा कि योगी सरकार बाढ़ से बचाव के लिए पिछले 3 वर्षों से तत्परता से काम कर रही है। जिसके फलस्वरूप इटवा विधान सभा क्षेत्र के सिंगारजोत, गौरा, बड़हरा तथा नवेल में नदी के कटान को रोकने के लिए नदी के कटान के स्थायी समाधान किये गए हैं। बेतनार में भी कटान रोधी कार्य हुआ था लेकिन अब दूसरी जगह पर कटान होने लगी है। इसी तरह गागापुर की समस्या के समाधान के लिए एक बृहद परियोजनाओं शासन को भेजी गई है। शाहपुर-भोजपुर बांध में 16 स्थानों पर गैप होने के कारण हर वर्ष बाढ़ का खतरा बना रहता है। इस गैप को भरने के लिए विगत 20 वर्षों में पिछली सरकारों और तत्कालीन विधायकों ने कोई प्रयास नहीं किया। परंतु योगी सरकार के आने के बाद मेरे प्रयासों से बांध के सभी 16 गैप को भरने की कार्ययोजना बनाकर भेजी गई है। जिसे प्रदेश सरकार ने स्वीकृत कर लिया है। अब केवल केंद्रीय जल आयोग की स्वीकृति मिलना बाकी है। इसके बाद शाहपुर-भोजपुर बांध के सभी गैप भरे जाएंगे। इस क्षेत्र में बाढ़ की समस्या का स्थायी समाधान हो जाएगा। उन्होंने असनहरा पुल और उसके एप्रोच की सुरक्षा के लिए किए गए कार्यों का भी निरीक्षण किया। बताया कि यहां पर भी नदी के कटान को रोकने और पुल की सुरक्षा के लिए 3 पक्के ठोकर का प्रस्ताव शासन में विचाराधीन है। शीघ्र ही स्वीकृति मिल जाएगी। जिससे दर्जनों गांव कटान के खतरे से बच जाएंगे। इस दौरान मौके पर मौजूद जिलाधिकारी और अधिशासी अभियंता ग्रामीण अभियंत्रण विभाग को उन्होंने शाहपुर-सिंगारजोत मार्ग पर विशुनपुरहरी सहि त अन्य स्थानों पर जलजमाव को रोकने तथा सड़क के नवीनीकरण और चौड़ीकरण का कार्य शुरू होने से पूर्व आवागमन को सुगम बनाने हेतु आवश्यक मरम्मत कराने के निर्देश दिए। उन्होंने लोकनिर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता को भी निर्देशित किया की जब तक तरहर-सिसई-बेंव मार्ग पर आवागमन सुगम बनाया जाय। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी दीपक मीना सहित कई अधिकारी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/बलराम/दीपक-hindusthansamachar.in