सैनिटाइजर व ऑक्सीमीटर का जखीरा बरामद, सत्तापक्ष बचाने में जुटा

सैनिटाइजर व ऑक्सीमीटर का जखीरा बरामद, सत्तापक्ष बचाने में जुटा
sanitary-and-oximeter-stockpile-recovered-gathered-to-save-ruling

बांदा, 07 मई (हि.स.)। औषधि निरीक्षक ने शुक्रवार को सैनिटाइजर और ऑक्सीमीटर का भारी जखीरा बरामद कर इस सिलसिले में एक व्यक्ति से पूछताछ शुरू कर दी है। वही दूसरी तरफ सत्ता पक्ष आरोपी को बचाने में जुट गया है। जिससे अभी तक इस मामले में किसी तरह की कार्रवाई नहीं हो सकी है। बताया जाता है कि ड्रग इंस्पेक्टर श्रीकांत गुप्ता को किसी व्यक्ति ने फोन करके बताया कि दो ई-रिक्शा में भारी मात्रा में नकली दवाओं का जखीरा जा रहा है। इस सूचना के आधार पर ड्रग इंस्पेक्टर ने कोतवाली पुलिस की मदद लेकर बिजली खेड़ा के पास उन दो रिक्शों को पकड़ा। जिसमें दवाओं के गत्ते लदे हुए थे। जब रिक्शे वालों से पूछा गया यह किसका माल है तो उन्होंने बताया कि यह माल शिवम परिहार निवासी सुकून कुआं का है। इस पर पुलिस ने शिवम के घर जाकर दबिश दी। जहां से एक गत्ता बरामद किया। इस गत्ते में 78 ऑक्सीमीटर थे जबकि ई रिक्शा में लदे हुए गत्तों में सैनिटाइजर था। बरामद किए गए कुल गक्तों की संख्या 44 बताई जा रही है। इनमें आधा लीटर और 5 लीटर के सैनिटाइजर हैं। इस बारे में डग स्पेक्टर का कहना है कि जब शिवम परिहार से इन सैनिटाइजर वह ऑक्सीमीटर के कागजात मांगे गए तो वह आनाकानी करता रहा। ड्रग लाइसेंस मांगा गया तो वह भी नहीं दिखा पाया।इसलिए बरामद किए गए माल और आरोपी को पुलिस कोतवाली ले आई इसके बाद सत्ता पक्ष के लोगों ने पुलिस और ड्रग इंस्पेक्टर पर दबाव बनाना शुरू किया। यहां तक कि मामला उच्चाधिकारियों तक पहुंच गया लेकिन ड्रग इंस्पेक्टर कार्रवाई करने के लिए अड़े रहे। बताया तो यह भी जाता है कि यह माल दिल्ली की एक फर्म का है उस फर्म ने दिल्ली की ही दूसरी फर्म को माल भेजा था लेकिन यह बांदा कैसे आया अभी इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली। फिलहाल डग इंस्पेक्टर ने बरामद किए गए सैनिटाइजर को जांच के लिए लखनऊ भेजने का निर्णय लिया है। कोतवाली पुलिस का कहना है कि ड्रग इंस्पेक्टर द्वारा जो भी तहरीर दी जाएगी, उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी लेकिन खबर लिखे जाने तक इस मामले में में किसी तरह की कार्रवाई नहीं हो सकी। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल