सौ फीसदी मास्क व सोसल डिस्टेन्सिंग का पालन न होने पर रिपोर्ट तलब

सौ फीसदी मास्क व सोसल डिस्टेन्सिंग का पालन न होने पर रिपोर्ट तलब
report-on-lack-of-adherence-to-100-mask-and-social-distancing

प्रयागराज जिले के तालाबों की स्थिति पर भी रिपोर्ट पेश करने का निर्देश प्रयागराज, 24 मार्च (हि.स.)। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए दिये गये निर्देशों को कड़ाई से लागू न करने पर जिम्मेदार पुलिस अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है। हालांकि पुलिस ने बताया कि मास्क न पहनने वाले 1192 लोगों का चालान किया गया है। जबकि एडवोकेट कमिश्नर चंदन शर्मा ने कहा कि सभी लोग अभी भी मास्क नहीं पहन रहे हैं। कोर्ट ने एक मार्च को पुलिस को आदेश दिया था कि सौ फीसदी मास्क लगाना अनिवार्य करे और न पहनने वालों पर पेनाल्टी लगायी जाय। यह भी देखे कि भीड़ इकट्ठा न होने पाये। शादी समारोह में सोसल डिस्टेन्सिंग के साथ आने वालों की संख्या नियंत्रित की जाय। स्कूल कालेज में कोविड गाइडलाइंस का पालन कराया जाय। कोर्ट ने पुलिस से पूछा है कि आदेश का पालन क्यों नहीं किया जा रहा है। यह आदेश न्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा तथा न्यायमूर्ति अजित कुमार की खंडपीठ ने कोरोना संक्रमण व पार्किंग मामले की सुनवाई करते हुए दिया है। कोर्ट के आदेश से गठित तीन सदस्यीय कमेटी ने रिपोर्ट पेश की। किन्तु कोर्ट ने रिपोर्ट संतोषजनक नहीं माना और कहा कि रिपोर्ट में माप व नजरी नक्शा नहीं है। तालाब के अतिक्रमण का जिक्र है। परन्तु तालाब किस हिस्से में है स्पष्ट नहीं है। कोर्ट ने नये सिरे से रिपोर्ट मांगी है। प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने बताया कि छह अतिरिक्त पार्किंग स्थल खाली कराये गये हैं। उनका इस्तेमाल पार्किंग के लिए हो रहा है। कोर्ट ने एडवोकेट कमिश्नर से निरीक्षण कर रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने पीडीए व नगर निगम से जानना चाहा है कि रिहायशी एरिया में व्यावसायिक गतिविधि क्यों हो रही है और इसकी योजना और नियम दाखिल करे। पीडीए ने बताया आजाद पार्क की जॉगिंग ट्रैक व तालाब वानिकी विभाग को दे दिया गया है। कोर्ट ने इस पर भी रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने अतिक्रमण हटाने का भी आदेश दिया है। साथ ही पूरे जिले के तालाबों की स्थिति पर रिपोर्ट मांगी है। याचिका की सुनवाई 26 मार्च को होगी। हिन्दुस्थान समाचार/आर.एन

अन्य खबरें

No stories found.