मीरजापुर में रेमडीसीवर और टेमीफ्लू खत्म, नहीं मिल रहा इंजेक्शन

मीरजापुर में रेमडीसीवर और टेमीफ्लू खत्म, नहीं मिल रहा इंजेक्शन
remedyceiver-and-temiflu-finish-in-mirjapur-not-getting-injections

- संक्रमण बढ़ने पर विटामिन और अन्य दवाओं की कमी - मास्क और सेनेटाइजर की भी बढ़ी मांग मीरजापुर, 14 अप्रैल (हि.स.)। जिले में रेमडीसीवर और टेमीफ्लू का इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। इससे कोरोना संक्रमितों के साथ ही जिन मरीजों को फेफड़े का संक्रमण है उनका इलाज प्रभावित हो गया है। अब ऐसे मरीजों को लखनऊ से इंजेक्शन मंगवाना पड़ रहा है। यहीं नहीं जिले में संक्रमण बढ़ने के साथ ही पैरासीटामोल और विटामिन की गोलियों की भी कमी हो गयी है। कोरोना संक्रमितों के लिए ही नहीं बल्कि फेफड़े के संक्रमण से जूझने वाले मरीजों के इलाज के लिए भी रेमडीसीवर और टेमीफ्लू इंजेक्शन का इस्तेमाल किया जाता है। जिले में बीते एक माह से दोनों इंजेक्शन नहीं मिल पा रहे है। फेफड़े के संक्रमण से जूझ रहे मरीजों को लखनऊ से इंजेक्शन मंगवाना पड़ रहा है। यहीं नहीं मरीजों का इलाज करने वाले चिकित्सक की रिपोर्ट सीएमओ से सत्यापन कराने के बाद ही दवा की आपूर्ति मिल पा रही है। नगर के लालडिग्गी स्थित रायल मेडिकल स्टोर के संचालक व थोक दवा व्यवसायी अब्दुल्ला खान का कहना है कि दोनों इंजेक्शन की लंबे समय से कमी बनी हुई है। इसके अलावा अब पैरासीटामोल और विटामिन सी की आपूर्ति भी काफी कम हो गयी है। अस्पताल रोड पर स्थित साईं मेडिकल स्टोर के संचालक चंदन यादव का कहना है कि रेमडीसीवर और टेमीफ्लू का इंजेक्शन काफी समय से नहीं मिल पा रहा है। इधर मास्क और सेनेटाइजर की मांग में भी वृद्धि हुई है। रमईपट्टी निवासी दवा व्यवसायी दिलीप गुप्ता का कहना है कि विटामिन की गोलियों की आपूर्ति भी इधर सप्ताह भर से प्रभावित हो गयी है। हिन्दुस्थान समाचार/ गिरजा शंकर