एक लाख करोड़ की मदद अर्थव्यवस्था को विकास के नए आयाम देगी- प्रो. यशवीर
एक लाख करोड़ की मदद अर्थव्यवस्था को विकास के नए आयाम देगी- प्रो. यशवीर
उत्तर-प्रदेश

एक लाख करोड़ की मदद अर्थव्यवस्था को विकास के नए आयाम देगी- प्रो. यशवीर

news

-सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यमियों के लिए ऋण योजना पर हुआ वेबिनार लखनऊ, 17 जुलाई (हि.स.)। भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के लखनऊ पत्र सूचना कार्यालय द्वारा 'पीएम राहत पैकेज और एमएसएमई' विषय पर एक वेबिनार का आयोजन किया। इस वेबिनार में पत्रकार, छात्र, अर्थशास्त्री, उद्यमी सहित 50 से अधिक व्यक्ति इंटरनेट के माध्यम से जुड़े। वेबिनार में प्रख्यात अर्थशास्त्री प्रोफेसर यशवीर त्यागी बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुये। उन्होंने कहा कि लाकडाउन के समय में जब अर्थव्यवस्था पटरी से उतरी हुयी है, ऐसे समय में सरकार द्वारा एमएसएमई सेक्टर को एक लाख करोड़ रुपये की मदद अर्थव्यवस्था को न सिर्फ मजबूत करेगी बल्कि विकास के नए आयाम तक लेकर जायेगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने सिर्फ एमएसएमई की परिभाषा को ही नहीं बदला है बल्कि व्यापार करने के लिए नि:शुल्क ऋण भी प्रदान किया है। सरकार ने वैश्विक निविदाओं में नियमों में संशोधन किया है और 200 करोड़ रुपये तक की पूंजी लगाने को हरी झंडी दी है। लंदन में ग्लासगो स्थित भारतीय मूल के उद्यमी आलोक सिंह ने वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने औद्योगिक क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए कई बड़े कदम उठाये हैं और भारत अब पूरी दुनिया में उन देशों की श्रेणी में आ गया है, जहां व्यापार करना बहुत ही आसान है। उन्होंने कहा कि वह भारत में अपनी इकाइयां स्थापित करने की योजना भी बना रहे हैं। उन्होंने सरकार द्वारा आसान व्यापार करने के लिए उठाए गए उपायों को भी रेखांकित किया है। आलोक सिंह ने कहा कि इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम यानी ईसीएलजीएस के तहत 1.2 लाख करोड़ रुपये एमएसएमई को दिया जा चुका है। सरकार दिवालिया होने वाली एमएसएमई फर्मों को बचाने के लिए एक विशेष संकल्प योजना पर भी काम कर रही है। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड के तहत इस योजना को अंतिम रूप दे रहा है। ये सभी कदम भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करेंगे। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. गोविंद जी पांडेय ने कहा कि सरकार के कार्यक्रमों और योजनाओं के बारे में जनता में जागरूकता लाने के लिए मीडिया एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उन्होंने कहा कि राहत पैकेज इस दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है कि यह जीवन के सभी क्षेत्रों को कवर करता है। 20 लाख करोड़ रुपये के इस बड़े पैकेज के तहत कृषि क्षेत्र, एमएसएमई और भारी उद्योग, सभी को कवर किया गया है।उन्होंने मीडिया के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि मीडिया को किसानों और उद्यमियों की सफलता की कहानी को प्रकाश में लाना चाहिए।। पीआई के अपर महानिदेसक आरपी सरोज ने कहा कि वेबिनार का मूल उद्देश्य प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज की मुख्य विशेषताओं को उजागर करना है। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/राजेश-hindusthansamachar.in