योग और कसरत से फिटनेस बरकरार रख खिलाड़ी दीपा गुप्ता जीत रहीं 'गोल्ड' मेडल

योग और कसरत से फिटनेस बरकरार रख खिलाड़ी दीपा गुप्ता जीत रहीं 'गोल्ड' मेडल
player-deepa-gupta-is-winning-39gold39-medal-by-maintaining-fitness-through-yoga-and-exercise

-जीवन में अपनी अलग पहचान के लिए जज्बा जरूरी, योग इसमें मददगार -दैनिक जीवन में इसे अपनाने का लें संकल्प वाराणसी, 20 जून (हि.स.)। जीवन में अपनी अलग पहचान के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा अगर इंसान में हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं होता। जीवन में हर पल, कदम-कदम पर मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इन मुश्किलों से भाग जाना तो आसान होता है। इच्छाशक्ति और संकल्प के साथ जूझने पर सफलता कदमों में होती है। बस नई सोच, मजबूत रखने की भरपूर कोशिश हमें करनी है। जीवन के प्रति ऐसा ही नजरिया कबड्डी और एथलेटिक्स की 57 वर्षीय अन्तरराष्ट्रीय खिलाड़ी दीपा गुप्ता का है। दीपा का मानना है कि जितनी आवश्यकता जीने के लिए भोजन की है। उतना ही आवश्यकता अपने को स्वस्थ रखने के लिए योग की है। खास कर महिलाओं को व्यायाम और योग नित्य करना चाहिए। योग, तन मन को स्वस्थ रखने के साथ ही अनेक बीमारियों से भी बचाता है। बस योग को दैनिक जीवन में अपनाने का संकल्प भर लेना है। रविवार को 'हिन्दुस्थान समाचार' से बातचीत में खिलाड़ी दीपा गुप्ता ने बताया कि विवाह से पहले कबड्डी और एथलेटिक्स में 4 नेशनल खेलें। बास्केटबॉल हैंडबॉल हॉकी में स्टेट स्तर पर खेला। विवाह के 14 वर्षों के बाद स्नातक और परास्नातक किया। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से और 50 वर्ष की आयु में 30 साल के बाद दोबारा खेल के मैदान में ट्रैक पर शिरकत की। वर्ष 2014 में स्टेट लेवल पर शॉट पुट, डिस्कस, हैमर में तीन गोल्ड मेडल प्राप्त किए। दीपा इसकी वजह बताती है कि विवाह और बाल बच्चों की जिम्मेदारी निभाने के साथ नियमित योग और एक्सरसाइज करती रही। जिससे उनकी फिटनेस बरकरार रही। दीपा बताती हैं कि वर्ष 2018 में बेंगलुरु में नेशनल गेम्स में हैमर थ्रो में गोल्ड मेडल मिला। उसके बाद मलेशिया पिनान में हैमर में गोल्ड, मेडल रिले रेस में सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल प्राप्त किया। बताया कि वर्ष 2022 में जापान कंसाई में होने वाले वर्ल्ड मास्टर गेम्स के लिए चयन हुआ है। योग में ही विशेष रूचि होने के कारण 2019 में योगा में स्टेट लेवल पर 50 प्लस आयु में गोल्ड मेडल मिला। 2020 में स्टेट नेशनल लेवल पर योगा कंपटीशन पर गोल्ड मेडल मिला। दीपा बताती हैं कि पति प्रकाश गुप्ता, बेटे आदित्य और ईशान दोनों बिजनेस में हैं। पति और बच्चों का हमें हमेशा सपोर्ट मिलता है। इसी से कुछ कर गुजरने की इच्छाशक्ति मन में रहती है। दीपा ने महिलाओं को संदेश दिया कि योग, प्राणायाम का अभ्यास स्वस्थ रहने के लिए नियमित करें। योग के साधारण आसनों के जरिए महिलाएं स्थायी तौर पर आंतरिक और बाहरी सौन्दर्य भी पा सकती है। महज आधा या एक घंटा नियमित समय देने पर आत्मविश्वास बढ़ता है। योग से आप आत्मिक तौर पर शांत महसूस करते हैं। जो जीवन के संघर्षो और कठिन दौर में बेहद काम आता है। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर

अन्य खबरें

No stories found.