पेटेंट संरक्षण वैक्सीन व दवाओं के जेनेरिक उत्पादन में सबसे बड़ी बाधा : डॉ. कृष्ण वीर चौधरी

पेटेंट संरक्षण वैक्सीन व दवाओं के जेनेरिक उत्पादन में सबसे बड़ी बाधा : डॉ. कृष्ण वीर चौधरी
patent-protection-is-the-biggest-obstacle-in-the-generic-production-of-vaccines-and-drugs-dr-krishna-veer-choudhary

पेटेंट फ्री वैक्सीन व दवा के लिए भारत कृषक समाज ने किया प्रदर्शन गाजियाबाद, 20 जून (हि.स.)। विश्व व्यापार संगठन बौद्धिक संपदा अधिकार के प्राविधानों में छूट दिए जाने और पेटेंट फ्री वैक्सीन और दवाइयों की मांग को लेकर भारतीय कृषक समाज ने रविवार को मालीवाड़ा चौक स्थित खादी आश्रम के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। भारतीय कृषक समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.कृष्ण वीर सिंह चौधरी के नेतृत्व में अनेक कार्यकर्ताओं ने अपनी मांग के लिखे नारों की तख्तियां लगा रखी थी। इस अवसर पर कृष्ण वीर चौधरी ने कहा कि कोरोना काल में देश को वैक्सीन, दवाओं और विभिन्न प्रकार के चिकित्सा उपकरणों की पर्याप्त आपूर्ति की आवश्यकता है। ऐसे में पेटेंट संरक्षण इन दवाओं के जेनेरिक उत्पादन में प्रमुख बाधा है। विश्व व्यापार संगठन बौद्धिक संपदा अधिकार के प्रावधानों में छूट प्राविधानों में छूट देनी चाहिए। डॉक्टर चौधरी ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान इन दिनों अभूतपूर्व चिकित्सा संकट का सामना पूरे विश्व के लोग कर रहे हैं। स्थिति से निपटने के लिए देश को वैक्सीन, दवाओं और विभिन्न प्रकार के चिकित्सा उपकरणों की पर्याप्त आपूर्ति की आवश्यकता है। कहाकि कई भारतीय निर्माताओं के पास आवश्यक दवाओं और वैक्सीन के उत्पादन की क्षमता और विशेषज्ञता है। बशर्ते की प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और व्यापार रहस्य के मुद्दों को हल करने के साथ बौद्धिक संपदा अधिकार की बाधाएं दूर हो। पेटेंट संरक्षण इन दवाओं के जेनेरिक उत्पादन में प्रमुख बाधा है क्योंकि हमें अगले छह महीनों में वैक्सीन की लगभग 200 करोड़ खुराक की आवश्यकता हो सकती है। इसीलिए हमें इनके निर्माण में कई और कंपनियों को शामिल करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस कार्य में बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियां पेटेंट के रूप में एकाधिकार बना कर बैठी है। जिसके कारण वैक्सीन और दवाइयां महंगी और दुर्लभ है। डा.चौधरी ने कोविड-19 के लिए आवश्यक सभी चिकित्सा उत्पादों को जनता के लिए आवश्यक वस्तु (पब्लिक गुड) घोषित करने और मुनाफाखोरी को समाप्त करने, वैश्विक दवा निर्माता और वैक्सीन निर्माता कंपनियां स्वेच्छा से मानवता के लिए अन्य निर्माताओं को प्रौद्योगिकी हस्तांतरण सहित पेटेंट मुक्त अधिकार देने, सरकार अन्य दवा निर्माताओं वैक्सीन व दवाइयों का उत्पादन बढ़ाने के लिए अपने संप्रभु अधिकारों का उपयोग, पेटेंट फ्री वैक्सीन और दवाइयां पेटेंट मुक्त करने की मांग की। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान अली

अन्य खबरें

No stories found.