पंचायत चुनाव : जहां हों बाहुबली, उन गांवों पर रहे पैनी नजर

पंचायत चुनाव : जहां हों बाहुबली, उन गांवों पर रहे पैनी नजर
panchayat-elections-where-bahubali-is-keep-a-close-watch-on-those-villages

- कलेक्ट्रेट सभागार में हुई त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा बैठक बलिया, 12 अप्रैल (हि.स.)। त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों बैठक सोमवार को हुई। इसमें मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत ने कम्युनिकेशन प्लान को सुदृढ बनाने पर खास जोर दिया। मंडलायुक्त ने कहा कि कम्युनिकेशन प्लान जितना बेहतर होगा, शांतिपूर्वक चुनाव कराने में उतनी ही आसानी होगी। मंडलायुक्त ने तहसीलवार चुनावी तैयारियों की जानकारी सभी एसडीएम से ली। उन्होंने नामांकन की अंतिम तिथि तक पाबंद करने की शत-प्रतिशत कार्रवाई करने के निर्देश दिए। कहा, लोगों को पाबंदी का मतलब भी समझाने के प्रति जागरूक किया जाए। उन्होंने चुनाव के दृष्टिगत शस्त्र जमा कराने से सम्बंधित विवरण जाना। संवेदनशील बूथों वाले गांवों में संवेदनशीलता को कम करने के लिए क्या कार्रवाई की गई, इसकी भी समीक्षा की। बैठक में कमिश्नर श्री पंत ने कहा कि इस पंचायत चुनाव में एसडीएम आरओ-एआरओ के रूप में नहीं रहेंगे। एसडीएम-सीओ के पास मुख्य कार्य लॉ एंड आर्डर मेंटेन रखना है, इसलिए इस पर खास ध्यान देंगे। लगातार गांवों में भ्रमण कर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरी कदम उठाएं। यह भी कहा कि ऐसे कंडीडेट की लिस्ट सभी एसडीएम-सीओ के पास रहे, जिनका कोई आपराधिक रिकार्ड रहा हो। बाहुबली टाइप के जहां लोग हों, उन गांवों में भी पैनी नजर रखें। मीडिया व सोशल मीडिया मैनेजमेंट पर भी खास ध्यान दें। यह सुनिश्चित कराएं कि चुनाव के दिन बूथ हर कोई आए और सुगमतापूर्वक अपना वोट देकर चला जाए। अनावश्यक एक भी व्यक्ति बूथ के आसपास भी नहीं होना चाहिए। जितना अलर्ट रहेंगे उतनी शांति से होगा चुनाव: डीआईजी डीआईजी सुभाषचंद दूबे ने कहा कि निर्वाचन में जितना अलर्ट रहेंगे, उतनी ही शांति से चुनाव सम्पन्न हो जाएगा। चुनाव के दिन कोई भी सूचना मिले तो तत्काल पहुंचे। उन्होंने कहा कि डीएम-एसपी की कमेटी जिनको छूट दे, उनके अलावा हर किसी का असलहा जमा हो जाए। थानावार इसे देख लिया जाए। बूथ पर एजेंट से ही विवाद शुरू होता है, इसलिए चुनाव के दिन सुबह सबसे पहले बूथ के हर एजेंट का नाम व अन्य विवरण लेते हुए उन्हें शांतिपूर्ण ढंग से निर्वाचन सम्पन्न कराने में सहयोग करने को जरूर कह दें। पक्षपात का प्रयास भी किया तो जाएगी नौकरी डीआईजी ने गांव में अगर कोई अराजक तत्व है तो उसको पहले ही बुलाकर समझा दें कि आपका अरेस्ट वारंट पहले से ही है। अगर चुनाव के दिन तनिक भी अराजकता की तो तत्काल सलाखों के पीछे होंगे। इसलिए बेहतर होगा कि अपना वोट डालकर शांति से घर चले जाएं। पुलिस को भी दो टूक कहा कि चुनाव में अगर किसी पुलिस वाले पर किसी का सहयोग करने का आरोप लगा और वह सही मिला तो बेहिचक नौकरी से हाथ धोना पड़ जाएगा। बैठक में एसपी डॉ विपिन ताडा, सीडीओ प्रवीण वर्मा, एडीएम रामआसरे, सभी एसडीएम, सीओ व एसओ थे। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज