panchayat-elections-technical-training-given-to-ro-and-aro
panchayat-elections-technical-training-given-to-ro-and-aro
उत्तर-प्रदेश

पंचायत चुनाव: आरओ एवं एआरओ को दिया गया तकनीकी प्रशिक्षण

news

-ईआरओ सॉफ्टवेयर विकसित,नामांकन पत्र संलग्न अभिलेखों सहित स्कैन कर किये जायेंगे अपलोड वाराणसी, 03 अप्रैल (हि.स.)। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए प्रशासनिक तैयारियां लगातार चल रही है। शनिवार को कमिश्नरी ऑडिटोरियम सभागार में आरओ एवं एआरओ को नामांकन पत्रों की ऑनलाइन फीडिंग आदि के संबंध में तकनीकी प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में उन्हें बताया गया कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में प्रत्याशियों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले नामांकन पत्रों को डिजिटाइज किया जाएगा। इसके लिए ईआरओ सॉफ्टवेयर विकसित किया गया है। इस सॉफ्टवेयर में प्रधान ग्राम पंचायत, ग्राम पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य का संपूर्ण विवरण फीड करने के साथ-साथ नामांकन पत्रों को संलग्न अभिलेखों सहित स्कैन करके अपलोड किया जाएगा। चुनाव में ग्राम पंचायत सदस्य के पद के लिए प्राप्त नामांकन पत्रों को केवल संख्यात्मक विवरण सॉफ्टवेयर में दर्ज किया जाएगा। सारा कार्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा कराया जाना है। इसके लिए निर्वाचन अधिकारियों को आयोग द्वारा लॉगिन एवं पासवर्ड उपलब्ध कराया जाएगा। जिसकी सहायता से एक साथ एक से अधिक कम्प्यूटर सिस्टम पर लॉगिन किया जा सकेगा। प्रशिक्षण के दौरान बताया गया कि ग्राम पंचायत प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य पद का संपूर्ण विवरण फीड करने के साथ-साथ नामांकन पत्रों को संलग्न अभिलेखों सहित इस स्कैन करके अपलोड करने से लेकर उम्मीदवारी वापस लेने तक की प्रक्रिया को ईआरओ सॉफ्टवेयर में अपडेट किया जाएगा। निर्वाचन अधिकारियों द्वारा नामांकन पत्रों का विवरण दर्ज करते समय बरती जाने वाली सावधानियों को बताया गया। प्राप्त नामांकन पत्रों का संपूर्ण एवं संख्यात्मक विवरण दर्ज करने तथा अभिलेखों को स्कैन करके पीडीएफ के रूप में अपलोड किए जाने की कार्यवाही ससमय पूर्ण की जाए। ताकि प्रतिदिन प्राप्त होने वाले नामांकन पत्रों के नवीनतम आंकड़े आयोग की वेबसाइट पर प्रदर्शित हो। नामांकन पत्रों की जांच का कार्य पूर्ण होने पर स्वीकृत-अस्वीकृत नामांकन पत्रों को समयाअंतर्गत सॉफ्टवेयर में अपडेट किया जाए। उम्मीदवारी वापस लेने के पश्चात अंतिम रूप से लड़ने वाले उम्मीदवारों का डेटा सॉफ्टवेयर में अपडेट किया जाए। प्रशिक्षण जिला ग्राम्य विकास संस्थान के जिला प्रशिक्षण अधिकारी डीएन द्विवेदी एवं प्राचार्य डायट ने दिया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/संजय