on-the-11th-death-anniversary-of-bharat-ratna-nanaji-there-will-be-11-vice-chancellors-including-ministers-of-the-central-and-state-government
on-the-11th-death-anniversary-of-bharat-ratna-nanaji-there-will-be-11-vice-chancellors-including-ministers-of-the-central-and-state-government
उत्तर-प्रदेश

भारत रत्न नानाजी की 11वीं पुण्यतिथि पर केन्द्र व राज्य सरकार के मंत्रियों सहित 11 कुलपति होंगे शामिल

news

- केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी न्यू स्फूर्ति परियोजना का वर्चुअली करेंगे शुभारम्भ - मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान वर्चुअली किसानों से होंगे रूबरू चित्रकूट, 25 फरवरी (हि.स.)। भारत रत्न नानाजी देशमुख के निर्वाण के 11 वर्ष पूर्ण होने पर उनकी 11वीं पुण्यतिथि पर "आत्मनिर्भर भारत के संदर्भ में वनवासी एवं ग्रामवासी आजीविका" तथा "आयुर्वेदिक औषधियों के मानकीकरण, गुणवत्ता परीक्षण एवं नई औषधियों की खोज में चुनौतियां तथा नवीन अन्वेषण" विषय पर दो दिवसीय अलग-अलग राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन दीनदयाल परिसर चित्रकूट में रखा गया है। गुरुवार को दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि नानाजी का जीवन और उनके कार्य हमेशा सबके लिए रहे हैं इसलिए उनकी 11वीं पुण्यतिथि पर आजीविका और आर्युवैदिक औषधियों से जुड़े महत्वपूर्ण विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन 26 एवं 27 फरवरी को रखा गया है। जिसमें 11 विश्वविद्यालयों और 11 सामाजिक संस्थाओं की भागीदारी रहेगी। इसके अलावा देशभर से प्रमुख विषय विशेषज्ञों को भी आमंत्रित किया गया है। नानाजी ने गांव के विकास में जनता की पहल और सहभागिता को ही अपना ध्येय माना, इसलिए पिछले 10 वर्षों से उनकी पुण्यतिथि का कार्यक्रम जन सहभागिता से ही संपन्न होता आ रहा है। नानाजी की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रत्येक वर्ष ग्रामीण जनों को कृषि, पशु पालन, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वरोजगार, विवाद मुक्त ग्राम और अन्य क्षेत्रों की विविध योजनाओं एवं प्रगति की जानकारी देने हेतु कार्यक्रम आयोजित होते आ रहे हैं। इसीलिए उनकी 11वीं पुण्यतिथि का कार्यक्रम भी जन सहभागिता से ही संपन्न होगा। 27 फरवरी को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उपक्रम मंत्रालय, खादी ग्रामोद्योग आयोग के अंतर्गत न्यू स्फूर्ति परियोजना का शुभारंभ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा वर्चुअल रूप में किया जाएगा। जिसमें सतना जिले के स्थानीय ग्राम वासियों को आजीविका की दृष्टि से स्व सहायता समूह के माध्यम से मल्टी हर्बल प्रोडक्ट के तहत सामान सुविधा केंद्र के माध्यम से संग्रहण, प्रसंस्करण एवं विपणन के कार्य से जोड़ा जाएगा। वहीं, एक अन्य कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सतना जिले के किसानों से वर्चुअली रुप से संवाद स्थापित करेंगे। इस दौरान कलेक्टर सतना अजय कटेसरिया एवं कृषि विभाग के सभी प्रमुख आलाधिकारी उपस्थित रहेंगे। 26 फरवरी को एक तरफ अखंड मानस पाठ प्रारंभ होगा। वहीं, दूसरी तरफ राष्ट्रीय सेमिनार का शुभारंभ होगा और 27 फरवरी को हवन पूजन के बाद सेमिनारों के समापन के साथ नानाजी उत्कृष्ट कृषक अवार्ड एवं न्यू स्फूर्ति योजना अंतर्गत प्राप्त परियोजना का शुभारंभ, उसके बाद विशाल भंडारा प्रसाद के साथ दीनदयाल परिसर चित्रकूट में श्रद्धांजलि का कार्यक्रम रहेगा। प्रगतिशील कृषकों को नानाजी उत्कृष्ट कृषक अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। नानाजी उत्कृष्ट कृषक अवार्ड के अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्र मझगवां एवं केवीके चित्रकूट के अंतर्गत प्रगतिशील कृषकों को प्रमाण पत्र एवं किट का वितरण किया जाएगा। जिसमें सतना एवं चित्रकूट जिले के उन्नतशील कृषकों को जैविक खेती एवं पशुपालन, समेकित खेती (कृषि विविधीकरण), मूल्य संवर्धन (प्रसंस्करण), संरक्षित खेती (उद्यानिकी) आदि क्षेत्रों के चयनित दो-दो कृषकों को सम्मानित किया जाएगा। ये मंत्रीगढ़ एवं विशिष्ट अतिथि रहेंगे उपस्थित इस कार्यक्रम में केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष वल्लभ भाई कथीरिया, मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष गिरीश गौतम, उच्च शिक्षा मंत्री मध्य प्रदेश शासन मोहन यादव, संस्कृति मंत्री मध्य प्रदेश शासन सुश्री उषा ठाकुर, कृषि कल्याण विकास मंत्री मध्य प्रदेश शासन कमल पटेल एवं उत्तर प्रदेश के समाज कल्याण अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, उत्तर प्रदेश के पीडब्ल्यूडी राज्य मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रभात झा, भारतीय जनता पार्टी नई दिल्ली के पूर्व अध्यक्ष भोजपुरी गायक मनोज तिवारी, वेटरनरी काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन डॉक्टर उमेश शर्मा, ओबीसी एंड माइनॉरिटी डिपार्टमेंट मध्य प्रदेश के निदेशक डॉ उमेश गौतम आदि विशिष्ट अतिथियों की मौजूदगी रहेगी। 11 विश्वविद्यालयों के कुलपति होंगे शामिल नानाजी पुण्यतिथि के इस आयोजन में महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर नरेश चंद्र गौतम, जगदगुरू रामभद्राचार्य दिव्यांग विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर योगेश चंद्र दुबे, बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ यू एस गौतम, अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा के कुलपति डॉ राजकुमार आचार्य, एकेएस विश्वविद्यालय सतना के कुलपति डॉ आर एस त्रिपाठी, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ प्रदीप कुमार बिसेन, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति प्रोफ़ेसर कपिल देव मिश्र, नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ एस पी तिवारी, मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ टी एन दुबे, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक के कुलपति प्रोफेसर एस.पी.एम त्रिपाठी, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय लखनऊ के कुलपति प्रोफेसर विनय पाठक उपस्थित रहेंगे। इन 11 संस्थानों की रहेगी भागीदारी इस मौके पर सीएसआईआर-सीमेप लखनऊ, एनसीआरआई लखनऊ, टेरी जबलपुर, मध्यप्रदेश विज्ञान प्रौद्योगिकी परिषद भोपाल, सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट चित्रकूट, अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान, एनएएसआई प्रयागराज, आईसीएआर अटारी, खादी ग्रामोद्योग आयोग, आईएआरआई, पी एल आई एम गाजियाबाद आदि संस्थाओं से प्रमुख व्यक्तियों की भागीदारी रहेगी। हिन्दुस्थान समाचार/ रतन