no-medicine-needed-even-after-85-percent-corona-positive-dr-jindal
no-medicine-needed-even-after-85-percent-corona-positive-dr-jindal
उत्तर-प्रदेश

85 प्रतिशत कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी किसी दवा की जरूरत नहीं : डॉ. जिंदल

news

कोरोना को मात देने के लिए खुश रहें, पॉजिटिव सोचें, सावधान रहें गाजियाबाद, 29 अप्रैल(हि.स.)। 85 प्रतिशत लोगों को पॉजिटिव होने के बाद भी किसी दवा की जरूरत नहीं पड़ती। केवल न्यूट्रीशियन यानि खाना-पान के साथ विटामिन सी और जिंक लेने भर से काम चल जाता है। 10 फीसदी कोविड पॉजिटिव लोगों को ही दवा की जरूरत होती है और मात्र पांच फीसदी को आईसीयू की जरूरत होती है। यह बातें गुरुवार को आईएमए गाजियाबाद के पूर्व अध्यक्ष और इंटरमेडिसिन विशेषज्ञ डा. वीबी जिंदल ने कहीं। डा.जिंदल ने कहा पैनिक होने की कतई जरूरत नहीं है। अपना और अपनों का ध्यान रखें। खुश रहने का प्रयास करें। कई बार लोग आरटी-पीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर परेशान हो जाते हैं। उन्हें परेशान नहीं होना है। यदि कोई लक्षण नहीं हैं तो दवा की भी जरूरत नहीं है और अधिकतर लोग ऐसे ही हैं। आरटी-पीसीआर पॉजिटिव आने के बाद सबसे पहले और सबसे जरूरी एक ही काम है, आइसोलेशन। क्योंकि पॉजिटिव होने के बाद सबसे बड़ा खतरा इस बात का है कि आप अपनों को संक्रमित कर सकते हैं। यदि हल्का बुखार है तो बुखार की दवा लेकर आराम करें। ज्यादा जांचें कराने के लिए भागदौड़ न करें। उससे आपके बहुत अजीज भी खतरे में आ जाते हैं। डा.जिंदल बताते हैं कि ऑक्सीमीटर लेने की भी सबको जरूरत नहीं होती। केवल 15 मिनट तक टहलकर देख लें, यदि आपको कोई दिक्कत नहीं होती तो किसी और जांच की जरूरत नहीं है, यहां तक ऑक्सीजन लेबल चेक करने की भी नहीं। और यदि आपको टहलने के बाद सांस लेने में कोई दिक्कत महसूस तो ऑक्सीजन लेबल चेक करें। ऑक्सीजन लेबल 94 से कम होने पर डाक्टर से संपर्क करें। छह मिनट तेज टहलने के बाद यदि ऑक्सीजन लेबल 10 पाइंट से अधिक कम हो जाए तो ही आपको चिकित्सक से संपर्क करने की जरूरत होती है। शुरुआती लक्षण आने से 14 दिन तक आइसोलेशन में रहें और यदि कोई लक्षण न हो तो फिर से आरटी-पीसीआर कराने की भी जरूरत नहीं है। खुश रहें। पॉजिटिव सोचें। सावधान रहें। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान अली