नेपाल के राजनीतिक प्रतिनिधि अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए भारत विरोधी माहौल बना रहे : उदय शमशेर
नेपाल के राजनीतिक प्रतिनिधि अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए भारत विरोधी माहौल बना रहे : उदय शमशेर
उत्तर-प्रदेश

नेपाल के राजनीतिक प्रतिनिधि अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए भारत विरोधी माहौल बना रहे : उदय शमशेर

news

- पंडित दीनदयाल उपाध्याय शोध पीठ की पहल पर राष्ट्रीय वेबिनार में भारत नेपाल सम्बन्ध पर विशेषज्ञों ने रखा विचार - नेपाल के राजनीतिक प्रतिनिधि युवाओं को भ्रमित कर राष्ट्रवाद का नया प्रयोग कर रहे वाराणसी, 27 जुलाई (हि.स.)। नेपाल सरकार के पूर्व उप वित्त मंत्री उदय शमशेर राना ने सोमवार को कहा कि उनके देश में राजनीतिक प्रतिनिधि अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए भारत विरोधी माहौल बनाकर युवाओं को भ्रमित कर राष्ट्रवाद का नया प्रयोग कर रहे हैं। जो पूरी तरह अनुचित है। ऐसे में मीडिया एवं राष्ट्रीय प्रतिष्ठान को संयम एवं वास्तविक स्थितियों का ध्यान रखना जरूरी है। उदय शमशेर राना पंडित दीनदयाल उपाध्याय शोध पीठ एवं राष्ट्रीय सेवा योजना,महत्मा गांधी काशी विद्यापीठ के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित भारत-नेपाल राष्ट्र सहस्तित्व: पण्डित दीन दयाल उपाध्याय के विचारों की प्रासंगिकता विषयक वेबिनार को सम्बोधित कर रहे थे। पूर्व मंत्री राना ने बतौर मुख्य अतिथि कहा कि भारत नेपाल की जनता की भावना का सम्मान होना चाहिए। दोनों देशों के करोड़ों नागरिक एक दूसरे देश में पीढ़ियों से निवास एवं रोजगार में अपना योगदान करते आए हैं। नेपाल कांग्रेस के डॉ अभिषेक प्रताप शाह ने कहा कि आज भारत नेपाल को तकनीकी, चिकित्सा तथा औषधि के लिए संयुक्त शोध की जरूरत है। इसमें अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि भारत एवं नेपाल के संयुक्त प्रयास के जरिये क्षेत्रीय विषमता दूर करने के लिए समावेशन बेहद आवश्यक हैं। भारत-नेपाल सम्बन्ध हृदय के सम्बन्ध वेबिनार की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रोफेसर टी.एन.सिंह ने कहा कि भारत नेपाल सम्बन्ध हृदय के सम्बन्ध हैं। ये संबंध सांस्कृतिक एकता विषम भौगोलिक आर्थिक तथा राजनीतिक समस्याओं के निराकरण में सक्षम है। वेबिनार में मुख्य वक्ता, एमेरिटस प्रोफेसर जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, इंडो-नेपाल संबंध के विशेषज्ञ, प्रोफेसर एस.डी. मुनी ने दोनों देशों के बीच मधुर सम्बन्ध स्थापित करने पर खासा जोर दिया। वेबिनार में यूजीसी नोडल अधिकारी प्रो निरंजन सहाय ने भी विचार रखा। इसके पहले विषय प्रवर्तन करते हुए शोध पीठ के सह समन्वयक डॉ. कृष्ण कुमार सिंह ने अतिथियों का स्वागत किया। संचालन आयोजन सचिव डॉ.पारिजात सौरभ, डॉ के.के. सिंह ने संयुक्त रूप से किया। वेबिनार में कुंवर पुष्पेंद्र प्रताप सिंह, डॉ.चंद्रशेखर सिंह, डॉ राकेश तिवारी, डॉ. अवधेश सिंह, डॉ. मोनिका सरोज, डॉ. शशिकांत वर्मा, डॉ. नंदिनी सिंह, डॉ. सतीश कुशवाहा, डॉ. अर्चना गोस्वामी, डॉ शैलेश, डॉ. सुमन ओझा, डॉ.उमेश कुमार सिंह ,डॉ. अविनाश कुमार सिंह, डॉ. रमेश कुमार मिश्र,डॉ.अर्चना सिंह ने साथ लगभग चार सौ से अधिक प्रतिभागी शामिल हुए। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/राजेश-hindusthansamachar.in