उप्र में रोजाना दो लाख से अधिक हो रहे कोरोना के टेस्ट

  उप्र में रोजाना दो लाख से अधिक हो रहे कोरोना के टेस्ट
more-than-two-lakhs-corona-tests-are-being-conducted-daily-in-up

-प्रदेश में अब तक तीन करोड़ 73 लाख 84344 लोगों की हुई कोरोना जांच -प्रवासी मजदूरों के लिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में क्वारंटाइन सेंटर की सुविधा लखनऊ, 14 अप्रैल (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रदेश के आला अधिकारियों को अलर्ट मोड पर काम करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में रोजाना दो लाख से अधिक कोरोना की जांच की जा रही है। प्रदेश में अब तक तीन करोड 73 लाख 84344 लोगों की जांच की जा चुकी हैं। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता का कहना है कि योगी सरकार प्रदेश में संक्रमण के बढ़ते प्रसार को देखते हुए सधी रणनीति के अनुसार युद्धस्तर पर संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए तेजी से कार्य कर रही है। इससे प्रदेश के प्रत्येक जिले में कोविड कमांड सेंटर से लोगों को सीधे तौर पर मदद मिल रही है। चार जिलों में विशेष कार्ययोजना प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश के चार जनपदों में कोरोना के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है जिस पर रोक लगाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विशेष कार्ययोजना के तहत इन जिलों में सुविधाओं का विस्तार करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। राजधानी समेत दूसरे जिलों में बेड की संख्या में इजाफा किया गया है। इसके साथ ही दवा, ऑक्सीजन, एंबुलेंस की पर्याप्त व्यवस्था को सुनिश्चित किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में भी प्रवासी मजदूरों के लिए क्वारंटाइन सेंटर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवासी मजदूरों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। जिससे संक्रमण की दर पर लगाम लगाया जा सके। प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश के सभी जनपदों में प्रवासी मजदूरों की आरटीपीसार जांच कराने और चिकित्सीय सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए विशेष रणनीति के तहत युद्धस्तर पर कार्य करने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश के हर जिले में क्वारंटाइन सेंटर के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम इन प्रवासी मजदूरों की आरटीपीसीआर जांच करेगी। ग्रामीण व नगरीय क्षेत्रों में निगरानी समितियां उन्होंने बताया कि प्रदेश में पब्लिक एड्रेस सिस्टम द्वारा व्यापक स्तर पर कोविड-19 से बचाव के बारे में लोगों को निरन्तर जागरूक किया जा रहा है। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में 59 हजार तथा नगरीय क्षेत्रों में 14 हजार निगरानी समितियां क्रियाशील हैं। मुख्यमंत्री ने लखनऊ, गौतमबुद्ध नगर, आगरा गोरखपुर, मेरठ, वाराणसी में टीकाकरण तेज किए जाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की प्रभावी रोकथाम के लिए टेस्ट, ट्रेस, ट्रीट’ के मंत्र के अनुरूप कार्यवाही की जाए। प्रदेश में कोविड-19 की जांच की सुविधा सरकारी क्षेत्र की 125 तथा निजी क्षेत्र की 104 प्रयोगशालाएं हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ पीएन द्विवेदी