मुख्यमंत्री योगी ने स्वामी विवेकानन्द को पुण्यतिथि पर किया नमन, बताया प्रेरणास्त्रोत
मुख्यमंत्री योगी ने स्वामी विवेकानन्द को पुण्यतिथि पर किया नमन, बताया प्रेरणास्त्रोत
उत्तर-प्रदेश

मुख्यमंत्री योगी ने स्वामी विवेकानन्द को पुण्यतिथि पर किया नमन, बताया प्रेरणास्त्रोत

news

लखनऊ, 04 जुलाई (हि.स.)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित प्रदेश के विभिन्न नेताओं ने स्वामी विवेकानन्द की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया है। मुख्यमंत्री ने शनिवार को ट्वीट किया कि वैश्विक क्षितिज पर भारतीय अध्यात्म के युगान्तकारी स्वर, सांस्कृतिक नवजागरण के अग्रदूत, युवाओं के शाश्वत प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानन्द जी को उनकी पुण्यतिथि पर कोटिशः नमन। आप हमारे प्रेरणास्रोत हैं, आपका जीवन हम सभी को लोक कल्याण के लिए सदैव प्रेरित करता रहेगा। उप्र विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने स्वामी विवेकानन्द के प्रेरणास्त्रोत वाक्य को याद करते हुए ट्वीट किया कि 'उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक रूको मत।' विश्व पटल पर भारतीय संस्कृति का परचम लहराने वाले, युवाओं के प्रेरणास्रोत एवं युग प्रवर्तक स्वामी विवेकानन्द जी की पुण्यतिथि पर शत्-शत् नमन वहीं उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट किया कि भारतीय संस्कृति व दर्शन को जन जन तक पहुंचाने वाले प्रकांड विद्वान, युवाओं के प्रेरणास्रोत, युगपुरुष स्वामी विवेकानन्द जी की पुण्यतिथि पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि। उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने भी स्वामी विवेकानन्द के वाक्यों को स्मरण करते हुए ट्वीट किया कि 'जब तक जीना, तब तक सीखना, अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है।' देश के युवाओं के प्रेरक शक्ति पुंज, युवा भारत में नव स्फूर्ति का संचार करने वाले, स्वामी विवेकानन्द जी की पुण्यतिथि पर कोटि कोटि नमन। वहीं समाजवादी पार्टी की ओर से स्वामी विवेकानन्द के वाक्यों को स्मरण करते हुए ट्वीट किया गया कि 'भारत के लाखों लोग अपने सूखे हुए गले से जिस चीज के लिए बार-बार गुहार लगा रही है वो रोटी है। वो हमसे रोटी मांगते हैं, लेकिन हम उन्हें पत्थर पकड़ा देते हैं। भूख से मरती जनता को धर्म का उपदेश देना उसका अपमान है।' स्वामी विवेकानन्द जी के स्मृति दिवस पर नमन एवं विनम्र श्रद्धांजलि! स्वामी विवेकानन्द भारत की उन महान विभूतियों में से थे, जिन्होंने देश और दुनिया को मानवता के कल्याण का मार्ग दिखाया। उनके विचार आज भी प्रासांगिक बने हुए हैं। स्वामी विवेकानन्द के विचार किसी भी व्यक्ति की निराशा को दूर कर सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in