जिलाधिकारी के बर्ताव से इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सदस्य खफा, जताया विरोध

जिलाधिकारी के बर्ताव से इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सदस्य खफा, जताया विरोध
members-of-indian-industries-association-angry-over-the-behavior-of-the-district-magistrate-expressed-opposition

- ऑक्सीजन सिलेंडर उपयोग करने वाले इंडस्ट्रीज मालिकों को जिलाधिकारी ने मीटिंग के लिए कैम्प कार्यालय में था बुलाया, सोने का बहाना कर नहीं मिली फतेहपुर, 29 अप्रैल (हि.स.)। जिले में गुरुवार को इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सदस्य उस समय जिलाधिकारी के बर्ताव से नाराज हो गये जब जिलाधिकारी उन्हें मीटिंग के लिए बुला कर नहीं मिली। जब उक्त मीटिंग कोविड की समस्या के समाधान के लिए ऑक्सीजन के अहम मुद्दे पर जिले के ऑक्सीजन सिलेंडर उपयोग करने वाले उद्यमियों से होनी थी। एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष ने रोष जताते हुए जिलाधिकारी के दुर्व्यवहार की शिकायत शासन से भी की है। बताते चलें कि, कोविड महामारी से जिला अस्पताल ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहा है हर रोज ऑक्सीजन सिलेंडर न मिल पाने के कारण कोविड से पीड़ित व्यक्ति असामयिक मौत के शिकार बन रहे है। उक्त समस्या को लेकर इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सतेन्द्र सिंह ने जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे से फोन पर बात कर प्रतिदिन एक सिलेंडर उपलब्ध कराने की पेशकश एक हफ्ते पूर्व की थी लेकिन बाद में जिलाधिकारी ने इस सहयोग पर कोई जवाब नहीं दिया। दो दिन पूर्व जब केन्द्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति व प्रदेश कारागार राज्यमंत्री जयकुमार सिंह जैकी ने बदतर जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण कर ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतों को गंभीरता से लेते हुए जिला प्रशासन को तत्काल ऑक्सीजन की कमी को दूर करने का निर्देश दिया तो जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष व पिंडारन मेटल एण्ड एलॉय फैक्टरी मालिक सतेन्द्र सिंह से कल बुधवार को फोन कर बात किया। जिलाध्यक्ष सतेन्द्र सिंस ने बताया कि जिलाधिकारी ने अनुरोध किया कि जिले के ऑक्सीजन उपयोग करने वाले उद्यमियों के साथ एक मीटिंग करना चाहते है। क्या यह मीटिंग आप उद्यमियों के साथ करवा सकते हैं। मैंने जिलाधिकारी के प्रस्ताव पर सहयोग पर सहमति जताई तो जिलाधिकारी ने आज दोपहर बाद एक -दो बजे के बीच कैम्प कार्यालय में मीटिंग के लिए बुलाया। जब मैं कुछ उद्यमियों के साथ कैम्प कार्यालय पहुंचा तो मुझे बताया गया कि आज जिलाधिकारी से मुलाकात संभव नहीं। जब मैंने बताया कि हमें जिलाधिकारी ने मीटिंग के लिए बुलाया है, तो स्टेनों ने बताया कि मैडम सो रही हैं अभी बात नहीं हो पायेगी आपको जब तक बैठना हो बैठो या जाना हो जाईये। जिलाधिकारी के इस दुर्व्यवहार से उद्यमियों में नाराजगी है जिसकी शिकायत शासन स्तर पर की गयी है और जिलाधिकारी को भी उद्यमियों की नाराजगी से अवगत करा दिया गया है। वहीं जब जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे से सम्पर्क करने की कोशिश की गयी तो सम्पर्क नहीं हो सका है। हिन्दुस्थान समाचार/देवेन्द्र