मथुरा : फर्जी दस्तावेजों से नौकरी कर रहे 32 शिक्षकों की सेवा समाप्त, एफआईआर दर्ज

मथुरा : फर्जी दस्तावेजों से नौकरी कर रहे 32 शिक्षकों की सेवा समाप्त, एफआईआर दर्ज
mathura-32-teachers-working-on-fake-documents-cease-service-fir-registered

मथुरा, 10 अप्रैल (हि.स.)। डॉ. बीआर आंबेडकर विश्वविद्यालय के बीएड सत्र 2004-05 के फर्जी अंक पत्र के सहारे नौकरी कर रहे 32 शिक्षकों की सेवा समाप्त करते हुए उनके खिलाफ एफआईआर की कार्यवाही की गई है। इन फर्जी शिक्षकों में एक पति-पत्नी भी शामिल हैं। इन शिक्षकों के खिलाफ कार्यवाही लंबे समय से लंबित थी। तीन अप्रैल को लखनऊ में आयोजित महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद की फर्जी शिक्षकों की ऑनलाइन समीक्षा में प्रदेशभर में फर्जी शिक्षकों के ऊपर कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए थे। इसी के क्रम में मथुरा में बीएड की फर्जी अंकतालिका के सहारे नौकरी कर रहे 32 शिक्षकों की सेवा समाप्ति की कार्यवाही करते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। बेसिक शिक्षा कार्यालय मथुरा द्वारा 23 नवंबर 2019 को बीएड की 59 फर्जी और टेम्पर्ड अंकतालिका धारक शिक्षकों की सूची जारी की गई थी। न्यायालय ने टेंपर्ड अंकपत्र धारकों की जांच के लिए यूनिवर्सिटी को चार माह का समय दिया है। जबकि फर्जी अंकपत्र वालों को दोषी मानते हुए उनकी सेवा समाप्त करते हुए एफआईआर के आदेश दिए थे। बीएसए कार्यालय द्वारा जारी सूची में फेंक डिग्री के आधार पर मथुरा में 34 शिक्षक नियुक्त पाए गए थे। जिनमें से 32 के खिलाफ अब एफआईआर कर दी गई है। वही एक के खिलाफ पहले ही एफआईआर की जा चुकी थी। फर्जी अंकपत्र धारक एक शिक्षक के खिलाफ एफआईआर हुई है या नहीं अभी इस विषय में कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। हिन्दुस्थान समाचार/महेश