कोविड-19: राजनीति के बजाए आपदा से निपटने में सभी लोग सहयोग करें : सुरेश खन्ना

कोविड-19: राजनीति के बजाए आपदा से निपटने में सभी लोग सहयोग करें : सुरेश खन्ना
kovid-19-everyone-should-cooperate-in-disaster-rather-than-politics-suresh-khanna

- उप्र: एक दिन में 121 आईसीयू एवं एचडीयू बेड बढ़ाए गए - एरा मेडिकल कॉलेज पूर्ण रूप से कोविड हॉस्पिटल घोषित लखनऊ, 14 अप्रैल (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने राजनीतिक दलों से अपील किया है कि इस वैश्विक महामारी में राजनीति के बजाए इस आपदा से निपटने में सभी लोग सहयोग करें। वे बुधवार को आमजन से अपील किया है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार द्वारा जारी प्रोटोकाल एवं गाइडलाइन्स का पालन करें। सामाजिक दूरी बनाए रखें तथा मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। घरों से आवश्यक होने पर ही निकलें। अपने हाथों को साबुन पानी से धोते रहें। बताया कि प्रदेश सरकार इस महामारी का सामना करने के लिए आवश्यक संसाधनों बेड्स, ऑक्सीजन, टेस्टिंग क्षमता इत्यादि पर पूरे मनोयोग से कार्य कर रही है। कोरोना संक्रमण के कारण गंभीर स्थिति वाले जनपदों में आर.टी.पी.सी.आर. टेस्टिंग को बढ़ाने, बेड्स की संख्या में वृद्धि करने तथा ऑक्सीजन एवं वेंटीलेटर की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित कराने की कार्यवाही लगातार की जा रही है। उन्होंने बताया कि रेमडेसीविर की प्रदेश में पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा स्टेट प्लेन हैदराबाद भेजा गया है जिससे शीघ्रता के साथ पर्याप्त मात्रा में रेमडेसीविर उपलब्ध कराया जा सके। बताया कि राजधानी में एसजीपीजीआई, डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान तथा किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में लगभग 1000 बेड उपलब्ध है। प्रदेश सरकार बेड्स की संख्या बढ़ाने पर निरंतर कार्य कर रही है। मंगलवार को 24 घंटे में चिकित्सा शिक्षा विभाग के अंतर्गत विभिन्न मेडिकल कॉलेजों एवं संस्थानों में 121 आईसीयू एवं एचडीयू बेड बढ़ाए गए हैं। मुख्यमंत्री द्वारा कोविड-19 संक्रमित मरीजों के लिए राजधानी में 2000 बेड आरक्षित करने के निर्देश के क्रम में इंटीग्रल इंस्टीट्यूट में 400 बेड, एरा मेडिकल कॉलेज में 700 बेड तथा टी. एस. मिश्रा मेडिकल कॉलेज में 500 बेड का लक्ष्य निर्धारित करते हुए कार्यवाही की जा रही है शीघ्र ही यह बेड्स उपलब्ध हो जाएंगे। मंत्री ने बताया कि एरा मेडिकल कॉलेज को पूर्ण रूप से कोविड हॉस्पिटल के रूप में घोषित कर दिया गया है। इंटीग्रल इंस्टिट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज में 120 आईसीयू के बेड उपलब्ध हैं तथा 200 बेड और तैयार किए जा रहे हैं। इस प्रकार यहां पर आइसोलेशन सहित कुल 400 बेड बढ़ाए जाएंगे। टी. एस. मिश्रा मेडिकल कॉलेज में 15 तारीख तक डेढ़ सौ आईसीयू एवं एचडीयू बेड सहित कुल 500 बेड किए जाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग आवश्यक मैन पावर उपलब्ध कराने में सहयोग करेगा। कैंसर इंस्टिट्यूट में भी 100 बेड की व्यवस्था की जा रही है। मेयो इंस्टिट्यूट, बाराबंकी में 200 से अधिक बेड क्रियाशील है, जिसे और बढ़ाने की कार्यवाही की जा रही है। कैरियर इंस्टिट्यूट द्वारा पूरा सहयोग दिए जाने का आश्वासन दिया गया है। उन्होंने बताया कि आज कैरियर इंस्टिट्यूट में 50 आईसीयू बेड सहित कुल 300 बेड उपलब्ध हो जाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश