केजीएमयू लैब में 3,258 कोरोना नमूनों की जांच में 254 संक्रमित, लखनऊ के 111 मामले
केजीएमयू लैब में 3,258 कोरोना नमूनों की जांच में 254 संक्रमित, लखनऊ के 111 मामले

केजीएमयू लैब में 3,258 कोरोना नमूनों की जांच में 254 संक्रमित, लखनऊ के 111 मामले

लखनऊ, 31 जुलाई (हि.स.)। प्रदेश में कोरोना के फिर बड़ी संख्या में नए मामले सामने से संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। राजधानी लखनऊ में भी तेजी से संक्रमण बढ़ रहा है। राजधानी की किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में गुरुवार को जांच किये गए 3,258 नमूनों में 254 की रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई। इनमें लखनऊ के 111, शाहजहांपुर के 64, बाराबंकी के 28, कन्नौज-हरदोई के 20-20, गोरखपुर व आजमगढ़ के 02-02 तथा ललितपुर, बरेली, गोण्डा, महराजगंज, सीतापुर व अम्बेडकरनगर, उन्नाव का 01-01 मरीज शामिल है। राजधानी लखनऊ में बढ़ते संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आवश्यक समन्वय सुनिश्चित करने के लिए एक टीम के गठन के भी निर्देश दिये हैं। यह कोविड चिकित्सालयों का भ्रमण कर इन अस्पतालों की चिकित्सा व्यवस्थाओं की जानकारी प्राप्त करेगी तथा आवश्यकतानुसार अन्य प्रबन्ध भी सुनिश्चित कराएगी। मुख्यमंत्री ने एसजीपीजीआई तथा केजीएमयू में भर्ती कोविड मरीजों के लिए प्राइवेट कमरों की भी व्यवस्था करने को कहा है। राजधानी में गुरुवार को रिकॉर्ड तोड़ 485 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। वहीं, इसके अलावा कोरोना की चपेट में आए छह मरीजों की सांसें थम गईं। इससे पहले 26 जुलाई को 449 लोग संक्रमित मिले थे। सार्वजनिक स्थलों पर भीड़ कम करने और लोगों के बेवजह बाहर निकलने पर रोक लगाने को सप्ताह में दो दिन शनिवार व रविवार को बन्दी भी की जा रही है। लेकिन, बकरीद और रक्षाबंधन को लेकर बाजारों में भीड़ बरकरार है। कई जगह लोग सामाजिक दूरी का पालन करने के नियमों की स्वयं धज्जियां उड़ा रहे हैं। इस वजह से भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। वहीं केन्द्र सरकार के अनलॉक-3 की गाइडलाइन जारी करने के बाद प्रदेश सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन में अभी भी प्रत्येक शुक्रवार रात दस बजे से सोमवार सुबह पांच बजे तक लागू साप्ताहिक बन्दी पहले की तरह जारी रखी गई है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना के तेजी से प्रसार के मद्देनजर मुख्यमंत्री का पीड़ित सहायता कोष- कोविड केयर फण्ड में प्राप्त 412 करोड़ रुपये के सापेक्ष लगभग 200 करोड़ रुपये चिकित्सा उपकरणों एवं दवाइयों के लिये स्वीकृत किये गये हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं कि 25 लाख से कम जनसंख्या वाले जनपदों को 03 करोड़ रुपये तथा 25 लाख से अधिक आबादी वाले जिलों को 05 करोड़ रुपये उपलब्ध कराये जाएं। उन्होंने कहा है कि कोविड चिकित्सालयों में ऑक्सीजन सहित सभी बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ अस्पताल की श्रेणी के आधार पर वेन्टिलेटर की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in

Last updated