कानपुर सड़क हादसा : लालेपुर व इसरीगंज में पसरा मातम, शवों से लिपट कर बिलख पड़े परिजन

कानपुर सड़क हादसा : लालेपुर व इसरीगंज में पसरा मातम, शवों से लिपट कर बिलख पड़े परिजन
kanpur-road-accident-weeds-spread-in-lalepur-and-isriganj-relatives-were-weeping-with-dead-bodies

- प्रशासन ने देर रात 17 मृतकों के कराए पोस्टमार्टम, एम्बुलेंस बुधवार गांव पहुंचे शव - टूरिस्ट बस में सवार सभी लोगों को रोडवेज बसों से वापस घर भिजवाया गया कानपुर, 09 जून (हि.स.)। जनपद के सचेंडी थाना क्षेत्र स्थित हाइवे पर अनियंत्रित टूरिस्ट बस की टक्कर से टैम्पो सवार 17 लोग असमय काल के गाल में समां गए। मृतक कामगार थे और सभी फैक्ट्री रात्रि ड्यूटी के लिए घर से निकले थे। रास्ते में उन्हें एक दर्दनाक हादसे ने मौत की आगोश में ले लिया। सभी मृतक लालेपुर व इसरीगंज के रहने वाले थे और गांव में घटना की जानकारी के बाद से मातम पसरा हुआ है। वहीं रात भर मृतकों के पोस्टमार्टम कर शवों को गांव परिजनों को सौंप दिए गए। उधर, हादसे के बाद टूरिस्ट बस में सवार सभी लोगों को देर रात रोडवेज बसों के घरों के लिए भेज दिया गया। जिले के आउटर थाना क्षेत्र सचेंडी हाइवे पर गदनखेड़ा के पास विपरीत दिशा से आए सवारियों से भरे टैम्पो में अनियंत्रित टूरिस्ट डबल डेकर बस ने जोरदार टक्कर मार दी। इस हादसे में टैम्पो सवार लालेपुर व इसरीगंज गांव के रहने वाले 17 कामगारों को मौत की नींद सुला दिया। हादसे में गंभीर रुप से घायल चार लोगों का अभी भी हैलट अस्पताल में इलाज चल रहा है। उधर, देर रात एडीजी जोन भानू भास्कर, आईजी मोहित अग्रवाल, मंडलायुक्त डॉ राजशेखर, पुलिस आयुक्त असीम अरुण सहित अन्य आलाधिकारी घटना स्थल सचेंडी पहुंची। अधिकारियों ने टूरिस्ट बस में सवार यात्रियों को घर भिजवाने की व्यस्था कराई। एआरएम मौके पहुंचे और दो रोडवेज बसों से करीब 50 लोगों को उनके घर को भिजवाया गया। यह सभी कामगार थे और बस से गुजरात के अहमदाबाद जा रहे थे। वहीं बस को पुलिस ने कब्जे में लेकर हादसे की जांच शुरु कर दी है। गांवों में पसरा मातम, दो परिवारों ने खोये पांच बेटे घटना के बाद से दोनों ही गांवों में मातम का माहौल है और गांव वालें मृतकों के परिजनों को ढांढस बंधाने में लगे हैं। सबसे खराब हालत उन परिजनों की जिनके इस हादसे में तीन नौजवान बेटे व एक ने दो बेटों को खोया है। उन मृतकों के परिजनों के आंखों का नीर सूखने के नाम नहीं ले रहा है। सभी बस यही कह रहे हैं बेटे दो जून की रोटी के बंदोबस्त लिए घर से निकले थे, लेकिन पता नहीं उन्हें किसकी नजर लग गई और सब बर्बाद हो गया। बताते चलें कि लालेपुर व इसरीगंज गांवों के 21 लोग किसान नगर स्थित एक बिस्किट फैक्ट्री में काम करते थे और घटना के दौरान घर से फैक्ट्री रात्रि ड्यूटी के लिए टैम्पो में सवार होकर जा रहे थे। रात भर हुए पोस्टमार्टम, गांव पहुंचते बिलख पड़े परिजन सचेंडी हाइवे पर हुए भीषण सड़क हादसे में कई परिवारों ने अपने लाल तो कई ने पिता को खो समेत 17 लोगोंं की मौत हो गई। घटना के बाद सभी शवों को एम्बुलेंस से लाया गया। इस दौरान एक लोडर में भी कई शवों का लाया गया। इसको लेकर अधिकारियों ने नाराजगी भी जताई। देर रात ही हैलट स्थित मर्च्यूरी में शवों को रखवाया गया और मृतकों का पंचनामा पुलिस ने किया। आलाधिकारियों ने निर्देश पर सीएमओ डॉ नेपाल सिंह ने डॉक्टरों की एक टीम को बुलाकर रात में ही शवों को पोस्टमार्टम शुरु कराया और बुधवार सुबह 07 बजे तक सभी के पोस्टमार्टम कर लिए गए। शवों के गांव पहुंचते ही बिलख पड़े परिजन, ग्रामीणों ने बंधाया ढांढस मृतकों के पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने सभी के परिजनों को शव सौंप दिए। जिला व पुलिस प्रशासन द्वारा मृतकों के शवों को गांव एम्बुलेंस से भिजवाया। गांव पहुंचते ही अपनों के शवों को देख मृतकों के परिजन खुद का संभाल नहीं सके और बिलख पड़े। गांव में लालेपुर के सबसे ज्यादा 13 लोगों की मौत इस हादसे में हुई है, जहां हर कोई मृतकों के परिजनों को ढांढस बंधाने में लगा है। वहीं मृतकों के परिजन रोते हुए कहते जा रहे थे कि टूरिस्ट बस ने सब कुछ उजाड़कर रख दिया। बता दें कि, लालेपुर गांव के तीन सगे भाईयों शिवभजन,राम मिलन व लवलेश की मौत होने से परिजन बेहाल हैं। वहीं इसी गांव के त्रिभुवन के दो बेटों की एक साथ दर्दनाक मौत हो गई। अलग-अलग थानों के सात दरोगाओं ने भरे 17 शवों पंचनामे हादसे में मृत 17 लोगों के शवों को मर्च्यूरी में रखवाते हुए जिला व पुलिस प्रशासन ने बातचीत के बाद सभी का पंचनामा कराए जाने के लिए शहर के अलग-अलग थानों में तैनात पुलिस कर्मियों से पंचनामा भरवाने का निर्णय लिया। काकादेव थाना, स्वरूप नगर, नवाबगंज, कर्नलगंज, कोहना, चमनगंज, ग्वालटोली, बजरिया थाना के दो-दो उप निरीक्षकों ने अलग-अलग 16 शवों का पंचनामा भरा जबकि सीसामऊ थाना से उपनिरीक्षक ने एक शव का पंचनामा किया। जिसके बाद पोस्टमार्टम की प्रक्रिया रात में ही शुरु हुई। इनकी हुई मौत गोलू परिहार (22) पुत्र शिव लखन सिंह लालेपुर, धनीराम कुरील (55) पुत्र राम प्रसाद इसरीगंज, ज्ञानेन्द्र सिंह परिहार (50) पुत्र चन्द्र पाल सिंह लालेपुर, बलबीर यादव (50) पुत्र राजपाल इसरीगंज, सुरेन्द्र यादव (45) इसरीगंज, अन्नू सिंह (18) पुत्र भानू सिंह इसरीगंज, सुभाष पासी (20) पुत्र लक्ष्मी प्रसाद लालेपुर, रजनीश (20) पुत्र अनंतराम लालेपुर, सगे तीन भाई राममिलन (25), शिवभजन (24) व लवलेश (22) पुत्र धनीराम पासी लालेपुर, सगे भाई धर्मराम (28) व गौरव (22) पुत्र त्रिभुवन यादव लालेपुर, नन्हू पासवान (22) पुत्र कमलेश, करन सिंह (35) पुत्र मेवालाल लालेपुर, उदय नारायण यादव (60) व शिवचरन (20) पुत्र कमलेश लालेपुर की मौत हुई हैं। हिन्दुस्थान समाचार/महमूद/मोहित