कानपुर : हैलेट अस्पताल में ब्लैक फंगस से हुई पहली मौत

कानपुर : हैलेट अस्पताल में ब्लैक फंगस से हुई पहली मौत
kanpur-first-death-due-to-black-fungus-in-hallet-hospital

- हमीरपुर की रहने वाली महिला एचआईवी रोग से थी ग्रसित कानपुर, 22मई (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना का संक्रमण अभी जारी है और इसी बीच अब ब्लैक फंगस ने भी दस्तक दे दी है। शनिवार को कानपुर के हैलट अस्पताल में ब्लैक फंगस से एक महिला की मौत हो जाने से स्वास्थ्य महकमे में अफरा तफरी का माहौल हो गया। महिला एचआईवी रोग से ग्रसित थी। बताया जा रहा है कि ब्रेन में ब्लीडिंग के चलते एक दिन पहले ही महिला अस्पताल में भर्ती हुई थी। गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध हैलेट अस्पताल में हमीरपुर की रहने वाली 60 वर्षीय महिला की मौत हो जाने से अस्पताल के स्वास्थ्य महकमे में हड़कम्प मच गया। महिला एचआइवी रोग से ग्रसित थी। परिवार के लोगों ने बताया एक दिन पहले ब्लैक फंगस के लक्षण मिलने पर हैलेट अस्पताल में भर्ती किया था। गंभीर हालत में हैलेट की इमरजेंसी लेकर आये थे। यहां जांच में कोरोना संक्रमण की पुष्टि भी हुई थी। न्यूरो सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. मनीष सिंह ने उनकी सीटी स्कैन जांच कराई थी। जिसमे ब्लैक फंगस का संक्रमण नाक, सायनस, ऑर्बिटल, आंख से मस्तिष्क तक पहुंच चुका था। म्यूकोर माईकोसिस संक्रमण से मस्तिष्क की नसों में ब्लॉक हो गया था। ब्रेन में ब्लीडिंग होने से मरीज की स्थिति गंभीर बनी हुई थी। डॉक्टरों ने एमआरआई एवं ब्रेन की सीटी एनज्योग्राफी कराने की तैयारी की थी, लेकिन देर रात दम तोड़ दिया। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. आरबी कमल ने बताया कि महिला 50 फीसदी ऑक्सीजन लेवल पर भर्ती हुई थी। एचआईवी रोग से ग्रसित होने के साथ कोरोना और ब्लैक फंगस के संक्रमण से महिला की हालत और बिगड़ गयी थी। शनिवार को उसकी बॉयोप्सी होने की तैयारी थी, लेकिन उसकी देर रात उसकी मृत्यु हो गयी। ब्लैक फंगस से यह पहली मौत है। हिन्दुस्थान समाचार /महमूद/मोहित